Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Jul 1, 2021

चल मैं हारा, तू जीता

वक़्त कहाँ है, बैठ के सोचूं
क्या खोया क्या पाया है,
ढल रहा है दिन का सूरज
मुझसे लम्बा साया है।  
बस यही हासिल है मेरा
तनहा लम्हा, टूटे ख्व्वाब,
कुछ बेरंग सी तसवीरें,
जीवन के उतार चढ़ाव।  
सुबह की किरणें नहीं है
शाम का अँधेरा है।  
हँसते चेहरे, हाथ में खंजर  
दोस्तों का घेरा है।
अपनों के दिए हुए कुछ
घाव है मेरे खाते में,
सावन के दिन बता गया है
छेद है कितने छाते में।
अक्सर मैंने दिल से बोला
चल मैं हारा, तू जीता।
हँसते हुए कुछ लम्हे बीते
रोता हुआ जीवन बीता।  
मेरी खामोशी को मिला
चुभते रिश्ते, बिगड़े बोल।
टूटे अरमानो ने खोले
मेरी कोशिशो के पोल।
चाहत की गुड़िया थी मेरी
ज़िद्द की आंधी तोड़ गई,
जमा किये थे छुट्टे सारे
तेज़ हवाएं फोड़ गई।
फिर भी "सैल" आज मुझे
शिकवा न कोई गिला है।
हर शै को अलग मंज़िल
अलग रास्ता मिला है।। 

4 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 04 जुलाई 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies

    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद मेरी रचना को शामिल करने के लिए

      Delete
  2. वक़्त कहाँ है, बैठ के सोचूं
    क्या खोया क्या पाया है,
    ढल रहा है दिन का सूरज
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete

  3. आपका बहुत बहुत धन्यवाद मेरी रचना को शामिल करने के लिए

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...