Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Apr 26, 2010

सीधी बात है कहने दो !

सीधी बात है कहने दो !
जो जैसा है रहने दो !!
ज़ब्त हम में है बहुत !
हर सितम को सहने दो !!
बेरहम जज़्बात के !
अब शहर को ढहने दो !!
हाथ-पैर जकड़े हुए !
कुछ जुबां से कहने दो !!
मोहलत से आये बड़ी !
अश्कों को अब बहने दो !!
दिल में मुहब्बत नहीं !
सैल तकल्लुफ रहने दो !!

30 comments:

  1. chhoti par achhi hai

    dhnyavad

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है

    ReplyDelete
  3. Behad sundar...saral shabd..aur seedhi baat!

    ReplyDelete
  4. मोहलत से आये अश्को को बहाकर जाया न कीजिये
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह बहुत खूबसूरत रचना, सीधे दिल से निकली हुई।

    आभार।

    ReplyDelete
  6. seedhi, sachchi, saral betook bat.
    sundar rachnatmak prayas

    ReplyDelete
  7. दिल में मुहब्बत नहीं...
    सैल तकल्लुफ रहने दो....

    बहुत अच्छी प्रस्तुति...सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  9. gagar me sagar bhar rahe hain sirji...bahut khoob...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब । एक संवेदनशील रचना । दिल को छू जाने वाली ।

    ReplyDelete
  12. pehali baar blog par aayee hoon bahut achhi lagee gazal badhaaI aur shubhakamanayen

    ReplyDelete
  13. निर्मलाजी आप हमेशा आती रहे ... सभी से अनुरोध है कि आपसब आते रहे ... हौसला अफजाही करतें रहे ...

    ReplyDelete
  14. bahut hi achhi rachna....aap yun hi likhte rahein....
    aapko padhna achha laga....
    regards
    http://i555.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. जज्बात जिन्दगी के तूफानों में भा गई सादगी ! आपका काम बहुत अच्छा है ! बधाई !

    ReplyDelete
  16. वाह!सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  17. सीधे साढ़े अंदाज़ में बहुत गहरी बात कह दी है आपने ... छोटे छोटे शेरों के लाजवाब ग़ज़ल गूँथी है आपने ...

    ReplyDelete
  18. बात हमेशा वो ही अच्छी है जो सीधी कही जाए और आपकी बात तो सीधी के साथ दिल को भी छू गयी

    ReplyDelete
  19. bahut khoob
    shail bhai , aap ke blog pe aana ka pehle dafha soubhagya mila chte behar ki acchi gazal ke liye aap ko sadhuwad,
    aakharkalash.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. -------------------------------------
    mere blog par is baar
    तुम कहाँ हो ? ? ?
    jaroor aayein...
    tippani ka intzaar rahega...
    http://i555.blogspot.com/

    ReplyDelete
  21. बात सीधी कही जा सकती है और असरदार ढंग से भी । यह आपने दिखा दिया।
    बधाई

    ReplyDelete
  22. बहुत बेहतरीन!

    ReplyDelete
  23. bahut badhiya hai ji...

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  24. सहज तरीके से कह दी , प्रशंसनीय ।

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना! दिल को छू गयी हर एक पंक्तियाँ! लाजवाब!

    ReplyDelete
  26. दिल में मुहब्बत नहीं !
    ‘सैल’ तकल्लुफ रहने दो !
    दिल की गहराइयों से लिखी गयी बहुत सुंदर रचना ....!!

    ReplyDelete
  27. ह्र्दय से निकली सुन्दर अभिव्यक्ति्…..….

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...