Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Mar 7, 2011

एक और चित्र

इससे पहले दिल्ली की एक गली में ली हुई एक तस्वीर आप सबके सामने लाया था (पोस्ट यहाँ देख सकते हैं) ... आप सब ने उसे सराहा था ... आज फिर आप सब के सामने एक और चित्र प्रस्तुत है ... इस बार का चित्र मुंबई की एक व्यस्त सड़क पे लिया गया है ... अब आप ही कहिये कि इसे देखकर आपको क्या अनुभूति हो रही है ...
तस्वीर  की गुणबत्ता (पिक्चर क्वालिटी) बहुत अच्छी नहीं है ... उसके लिए क्षमा चाहूँगा ...



11 comments:

  1. कोई अगर मुझे दुह ले,उसके पहले ही बेटी(या बेटा) तू अपना पेट तो भर ही ले...वरना भूखी रह जाएगी।

    ReplyDelete
  2. माँ का प्यार हर जगह ...

    ReplyDelete
  3. mamta...road ke beech me bhi ...jab gadiyan aa rahi hain...maa ki jagah sach me koi nahi le sakta...

    ReplyDelete
  4. Mamta kee anubhooti hoti hai!

    ReplyDelete
  5. माँ का प्यार अनमोल है| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  6. ब्लॉग के कलेवर पसंद आये. चित्र भी सुखद अनुभूति का अहसास करता है.

    ReplyDelete
  7. तस्वीर की गुणवत्ता अनमोल है, मां के प्यार की तरह!!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...