Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Mar 19, 2011

मन को रंग दो आज दया, करुणा के रंग से !

होली के मौके पर सभी ब्लॉगर साथियों को शुभकामनायें !
जापान में आई भयानक त्रासदी में भारत के सभी नागरिकों की तरफ से संवेदना व्यक्त करना चाहता हूँ और उन जांबाज़ लोगों को सलाम करना चाहता हूँ जो अपनी मौत की परवाह न करते हुए, परमाणु उर्जा संयंत्र में आई समस्याओं से जूझ रहे हैं, ये जानते हुए भी कि इससे उनकी मौत भी हो सकती है !
आप सबके लिए एक कविता प्रस्तुत है इस रंगों के उत्सव पर । उम्मीद है आपको पसंद आयेगी ।

ढेरों रंग रखे हैं मैंने
खूब खेलूंगा होली,
रंगों का उत्सव है आज
गाऊँ संग हमजोली ।

तेरे होठों की लाली है
रंग मेरे गालों पर,
आसमान का नीला रंग
से तू सपनों को भर ।

आँचल का हरा रंग
से मन हुआ नशीला,
तेरी मीठी मुस्कान से
मिला है रंग पीला ।

मन को रंग दो आज
दया, करुणा के रंग से,
मानवता में रंग लो और
सीखलो जीना ढंग से ।

33 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लिखा है सर!

    आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  3. हार्दिक संवेदनाएं वहां के लोगों के लिए .....

    रंग पर्व की मंगलकामनाएं

    ReplyDelete
  4. सैल साहब, सच कहूँ तो इस बार होली पर मन बुझा बुझा सा था। इतना भयंकर हादसा होकर हटा है और अभी भी जापान के लोग सेफ़ नहीं है। आपने होली की शुभकामनायें देते समय उन्हें भी याद रखा, अच्छा लगा। उत्सव जीवन का हिस्सा हैं, चलते ही रहने चहियें लेकिन हम साथ ही उनकी भी खुशियों की खैर मांगे जो इस घड़ी में जीवन और मौत के बीच झूल रहे हैं तो ही उत्सव की सार्थकता है।
    अच्छी पंक्तियां लिखी हैं आपने।
    समस्त ’सैल’ परिवार को होली की हार्दिक श्भकामनायें।

    ReplyDelete
  5. मन को रंग दो आज
    दया, करुणा के रंग से,
    मानवता में रंग ले और
    सीखले जीना ढंग से ।
    bahut sahi kaha hai ... holi ka aashish

    ReplyDelete
  6. मन को रंग दो आज
    दया, करुणा के रंग से,
    मानवता में रंग ले और
    सीखले जीना ढंग से ।
    Bahut sundar!
    Holee mubarak ho!

    ReplyDelete
  7. आप सबके साथ मेरी भी सम्वेदनायें जापान के लिये!
    होली पर मंगलकामनायें!

    ReplyDelete
  8. सैल भैया ,
    दीवाली की शुभकामनायें अक्सर होली में भंग पीकर दे दी जाती हैं यह एक बढ़िया रिवाज है जो मैंने शुरू कर दिया है ! भला हो संजय बाऊ जी का जो बता गए कि भंग ज्यादा चढ़ गयी है !
    होली की शुभकामनायें स्वीकार करें ! दीवाली वाली अडवांस में जमा रखें ...

    ReplyDelete
  9. मज़ा आ गया।
    हैप्पी होली!

    ReplyDelete
  10. होली के रंग तो बहुत प्यारे होते है, उतने ही प्यार से आपने इसे रंगा है.. होली मुबारक.

    ReplyDelete
  11. आप सब को भी होली मंगलमय हो.

    जापान की त्रासदी पर हम भी आपके साथ आपके विचारों का समर्थन करते हैं.'जापानी बंधुओं से'शीर्षक लेख में मैंने समाधान भी प्रस्तुत करने का प्रयास किया है.

    ReplyDelete
  12. मन को रंग दो आज
    दया, करुणा के रंग से,
    मानवता में रंग ले और
    सीखले जीना ढंग से ।


    सुन्दर सन्देश ..होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. होली की शुभकामनायें स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  14. @ सतीश जी,
    कोई बात नहीं ... होली हो या दिवाली आपने याद कर लिया ...यही बहुत है :)

    @ मो सम कौन
    आपने मेरी मन की बात कह दी
    "उत्सव जीवन का हिस्सा हैं, चलते ही रहने चहियें लेकिन हम साथ ही उनकी भी खुशियों की खैर मांगे जो इस घड़ी में जीवन और मौत के बीच झूल रहे हैं तो ही उत्सव की सार्थकता है"

    ReplyDelete
  15. नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  16. मन को रंग दो आज
    दया, करुणा के रंग से,
    मानवता में रंग ले और
    सीखले जीना ढंग से

    होली के अवसर पर सुन्दर रचना । मंगलकामनाएं ।

    .

    ReplyDelete
  17. मन को रंग दो आज
    दया, करुणा के रंग से,
    मानवता में रंग लो और
    सीखलो जीना ढंग से ।
    holi parv ki badhai is sundar sandesh ke saath .

    ReplyDelete
  18. समय मिले तो ये पोस्ट जरूर देखें.
    "गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका!"
    लिक http://sawaisinghrajprohit.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

    आपका कीमती सुझाव और मार्गदर्शन अगली पोस्ट को और अच्छा बनाने में मेरी मदद करेंगे! धन्यवाद…..

    ReplyDelete
  19. हर शब्द दिल पर असर कर गया ..आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. bahut sunder rachna antim char line bhahut badhiya lage hai ........aapko bhi holi ki anek shubhkamanaye.........

    ReplyDelete
  21. सुन्दर सन्देश. होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  22. प्रशंसनीय.........लेखन के लिए बधाई।
    ========================
    निखरती रहे वह सतत काव्य-धारा।
    जिसे आपने कागजों पर उतारा॥
    ========================
    होली मुबारक़ हो। सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  23. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  24. प्रेम भाव के प्राकट्य से बढ़ कर कौन सी होली हो सकती है. आप का संदेश हृदय को रंग गया.

    ReplyDelete
  25. अति सुंदर ! एक नवीन भाव, नवीन रंग करुणा का |

    ReplyDelete
  26. @ सैल
    रचना के शुरू की लाइने बेहद खूबसूरत और सार्थक हैं ...औरों की तरह सरसरी नज़र से पढने के कारण समझ ही नहीं सका :-( आज दुबारा इसे पढ़ा तो सोंचने पर मजबूर कर दिया और साथ ही एक खूबसूरत संवेदनशील दिल के बारे में भी जान पाया !

    वाकई वे ही मानव हैं जो इस त्रासदी और भयानक मौत की उस गुफा में अकेले अपनी नन्ही जान को जोखिम में डालकर, इस त्रासदी से जूझ रहे हैं !

    शायद मानवता का यही स्वरुप है जो हमें जीने की राह और समाज निर्माण की बुद्धि देता है ! और हम यहाँ रंगोत्सव मना रहे हैं....उन्हें भूल कर :-(

    ReplyDelete
  27. @ सतीश जी,
    सराहने के लिए अनेक धन्यवाद ! वैसे अपने देश में कोई उत्सव मनाना गलत नहीं है ... बस इतना ध्यान रखना है कि खुशी के नशे में हम सामाजिक बातें न भूलें ... अपने ब्लॉग में कुछ शब्द लिख देने से न तो हमें कुछ नुक्सान होगा नाही हम कोई महात्मा बन जायेंगे .. बस जो लिखेगा उसको अच्छा लगेगा और जो पढ़ेगा उसको भी ... दुनिया भर में भलमनसाहत फैले यही तो हम चाहते हैं ... है न ?

    ReplyDelete
  28. Very well said sir, zindai ke rang hain yeh...

    ReplyDelete
  29. Indranil

    i feel this is one of the best Kavita i have read,
    thanks
    a very nice one
    keep writing

    ReplyDelete
  30. देर से पहुंचा.
    होली मुबारक.
    रंगों की रंगीनी में सजा खूबसूरत सन्देश.

    मन को रंग दो आज
    दया, करुणा के रंग से,
    मानवता में रंग लो और
    सीखलो जीना ढंग से

    SALAAM.

    ReplyDelete
  31. BAHUT SUNDAR SANDESH DIYA AAPNE HOLI KE RANG ME....

    ReplyDelete
  32. Sundar rachana...mazedar post ..shubhkamna

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...