Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Jul 4, 2010

पगडण्डी




उसे बारिश में भीगना,
पसंद है बहुत !
मुझे नहीं
बस इसी बात पे,
हमारे बीच
कडकती है बिजलियाँ

पहाड़ की पगडण्डी पर,
तुम बढ़ गए थे आगे,
और थोड़ी देर के लिए,
सुस्ता कर,
मैंने चुपके से
सोख लिया था
सन्नाटा




सिलबट्टा, मिक्सी, फ़ूड-प्रोसेस्सर
चिट्ठी, ईमेल और चैटिंग
फैन, कूलर और एसी
साईकिल, बस और हवाई जहाज
माँ, पत्नी और बेटी !

चित्र साभार गूगल सर्च

29 comments:

  1. बहुत सुन्दर रही ये पगडंडियाँ

    ReplyDelete
  2. उसे बारिश में भींगना,
    पसंद है बहुत !
    मुझे नहीं ।
    बस इसी बात पे,
    हमारे बीच
    चमकती है बिजलियाँ ।

    वाह्…………क्या खूब लिखा है।

    ReplyDelete
  3. क्या कहने .............बहुत बढ़िया !! लगे रहिये !

    ReplyDelete
  4. आपकी पगडंडीयों को पढ़ कर मुझे भी याद आ गयी कुछ लाइने जो अभी तक डायरी में ही क़ैद हैं ...


    सर्दी में ठिठुरती
    बरसात में नहाती
    इक पहाड़ से दूजे पहाड़
    सुख दुःख ले जाती
    मौन तपस्वी सा
    राह दिखाती
    गाँव से गाँव का
    सम्बन्ध बनाती
    खेत की मुंडेर से
    खेत के मुंडेर तक
    बलखाती इठलाती
    छोटी सी
    पथरीली सी
    पगडण्डी.........

    ReplyDelete
  5. khubsurat pagdandiyaan...aur ye to kamaal..

    उसे बारिश में भींगना,
    पसंद है बहुत !
    मुझे नहीं ।
    बस इसी बात पे,
    हमारे बीच
    चमकती है बिजलियाँ ।

    :)

    ReplyDelete
  6. Pahli aur teesari rachna niyahan sundar hai...

    ReplyDelete
  7. और थोड़ी देर के लिए,
    सुस्ता कर,
    मैंने चुपके से
    सोख लिया था
    सन्नाटा ।

    Waah !...kya baat keh di.

    ReplyDelete
  8. उसे बारिश में भींगना,
    पसंद है बहुत !
    मुझे नहीं ।
    बस इसी बात पे,
    हमारे बीच
    चमकती है बिजलियाँ ।

    adbhutt...taliyaaaaan ek dum is bat pe....baki dono bhi khub bhali hain ..par pahli lazawaab lagi /...

    ReplyDelete
  9. मंगलवार 06 जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. सुन्दर,बेदतरीन रचना है।

    ReplyDelete
  11. क्षणिकाएं गहरे विचारों से परिपूर्ण है। शैली चमत्कृत और प्रभावित करती है। सर्जनात्मकता के लिए विभिन्न बिम्बों का उत्तम प्रयोग अद्भुत प्रभाव उत्पन्न करता है।

    ReplyDelete
  12. सिलबट्टा, मिक्सी, फ़ूड-प्रोसेस्सर
    चिट्ठी, ईमेल और चैटिंग
    फैन, कूलर और एसी
    साईकिल, बस और हवाई जहाज
    माँ, पत्नी और बेटी !

    वाह वाह वा...आपकी नूतन सोच को नमन...कमाल की रचना प्रस्तुत की है आपने...ढेरों बधाई..
    नीरज

    ReplyDelete
  13. इन्‍द्रनील भाई पहली दो कविताएं बहुत सुंदर हैं। आपने गजब के बिम्‍ब लिए हैं। पहली कविता में अगर चमकती की जगह कड़कती या तड़कती हो तो मेरे हिसाब से कविता में और गहराई आएगी।
    दूसरी कविता लगभग चमत्‍कृत करती है। तीसरी के बारे में मेरा मत आपसे बिलकुल अलग है। पहली बात तो यही की जीवन से भरी मां,पत्‍नी और बेटी को कृपया इन बेजान चीजों के साथ मत रखिए। अव्‍वल तो वे चीज नहीं हैं। दूसरी बात यह कि यह तुलना बेमानी है। यह अंतर समय के सापेक्ष है।

    ReplyDelete
  14. एक और बात शब्‍द भीगना है,भींगना नहीं। हां भींजना शब्‍द है।

    ReplyDelete
  15. क्या बात है ..एकदम अलग और दिलकश अंदाज ..बेहद सुन्दर.
    मेरे ब्लॉग पर इज्जतअफजाई का बहुत बहुत शुक्रिया.

    ReplyDelete
  16. इन्‍द्रनील जी आपकी पहली दो कविताएं बहुत सुंदर हैं। मेरे हिसाब से अगर पहली कविता में चमकती की जगह आप कड़कती या तड़कती कर लें तो कविता में और गहराई आज जाएगी। दूसरी कविता लगभग चमत्‍कृत करती है। पर तीसरी कविता के बारे में मेरा मत कुछ भ्रिन्‍न है। पहली बात तो यह कि जीवन से भरी मां,पत्‍नी और बेटी की तुलना इन बेजान चीजों से साथ मत करिए। अव्‍वल तो ये चीज नहीं हैं। दूसरी बात यह अंतर समय के सापेक्ष है।

    ReplyDelete
  17. Pata nahi kitna samajh paayi...magar padh k khushi huyi...

    ReplyDelete
  18. राजेश जी, आप ने सही कहा चमकती की जगह कडकती बेहतर लगेगी ... पहले मैं भी यही सोचा था पर जाने क्या सोचकर नहीं लिखा ... अब उसे कडकती कर दिया है ...
    जहाँ तक तीसरी कविता कि बात है, वो माँ, पत्नी और बेटी कि तुलना बेजान चीजों से नहीं की गई है ... यहाँ तीन पीढ़ी में आया बदलाव को दर्शाने की कोशिश की गई है ... अलबत्ता, सिलबट्टे से पीसी हुई मसाले से खाने में जो स्वाद आता है वो किसी भी मिक्सी से नहीं आ सकता है ....
    विज्ञान के कारण जीवन में भी बदलाव आते जा रहे हैं ... उसे भी नकार नहीं सकते ... पीढ़ी दर पीढ़ी हमारी जिंदगी बदलती जा रही है ... यह क्षणिका उसीकी तस्वीर है ... उम्मीद है अब मैं अपने विचार स्पष्ट कर पाया हूँ ....

    ReplyDelete
  19. इन्‍द्रनील जी सुझाव पर विचार करने और अपनाने के लिए शुक्रिया। तीसरी कविता में आपकी भावना मैं पहले भी समझ पा रहा था। वह बहुत स्‍पष्‍ट है। लेकिन अंतत: पीढि़यों का अंतर दिखाने के लिए आपने बेजान चीजों को ही लिया है। उससे भी ज्‍यादा मेरा कहना है कि स्त्रियां चीज नहीं हैं। हमें इस मानसिकता से उबरना चाहिए।खैर यह विमर्श का विषय है।

    ReplyDelete
  20. सन्नाटे को सोखने का यह अन्दाज ... बहुत सुन्दर
    और फिर बिजली कडकने का कारण भी तो समझ में आ गया.

    ReplyDelete
  21. पहाड़ की पगडण्डी पर,
    तुम बढ़ गए थे आगे,
    और थोड़ी देर के लिए,
    सुस्ता कर,
    मैंने चुपके से
    सोख लिया था
    सन्नाटा ।
    ...सुंदर भाव बेहतरीन रचना.

    ReplyDelete
  22. मेरी रचना को सराहने के लिए आप सबको मेरा हार्दिक धन्यवाद !

    ReplyDelete
  23. स्वतन्त्रता दिवस की शुभ कामनाएँ।

    कल 17/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  24. 'मैंने चुपके से सोख लिया था सन्नाटा 'बहुत सुन्दर पंक्ति \अच्छी भावपूर्ण रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  25. भावपूर्ण रचना..............शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  26. अच्छी पगडंडिया खासतौर पर ...
    उसे बारिश में भींगना,
    पसंद है बहुत !
    मुझे नहीं ।
    बस इसी बात पे,
    हमारे बीच
    चमकती है बिजलियाँ ।

    ReplyDelete
  27. सबसे पहले तो यशवंत को धन्यवाद कि उसने मेरी इस पोस्ट को अपने चर्चा में स्थान दिया ...
    वंदना जी, निधि जी और आशा जी को भी अनेक धन्यवाद जो वो आकर मेरी इस पोस्ट पर अपनी बहुमूल्य टिपण्णी दिए ...

    ReplyDelete
  28. बेहद भावमयी और खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...