Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Jul 24, 2010

रुक रुक कर यूँ चलना क्या



बहुत दिनों बाद फिर से एक ग़ज़ल लिखने की कोशिश की है मैंने, उम्मीद है आप सबको पसंद आयेगी ....

रुक रुक कर यूँ चलना क्या ।
अंधेरों में पलना क्या

कर दो जो भी करना है ।
फिर हाथों को मलना क्या

परवाने सा जल जाओ ।
टिम टिम कर यूँ जलना क्या

फैला दो अब लालिमा ।
बादल पीछे ढलना क्या

फल से लदकर झुक जाओ ।
इतने ऊपर फलना क्या

अब तो दिल को समझाओ ।
खुद ही खुदको छलना क्या

जाने क्या कहता है ‘सैल’ ।
उसकी बातें खलना क्या

चित्र साभार गूगल सर्च

36 comments:

  1. बहुत खूबसूरत.....सुन्दर प्रयास है...

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया संगीता जी ...

    ReplyDelete
  3. आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है।

    ReplyDelete
  4. फल से लदकर झुक जाओ ।
    इतने ऊपर फलना क्या ॥

    अब तो दिल को समझाओ ।
    खुद ही खुदको छलना क्या ॥
    Wah...behad achha likha hai...!

    ReplyDelete
  5. फल से लदकर झुक जाओ ।
    इतने ऊपर फलना क्या ॥
    बेहतरीन

    ReplyDelete
  6. bahut hee khoobsoorat gazal likhi hai mere malik...aise hee likhte rahiye!

    ReplyDelete
  7. अच्छी ग़ज़ल, जो दिल के साथ-साथ दिमाग़ में भी जगह बनाती है।

    ReplyDelete
  8. bhut khub aachchi shikshaa prd baat he . akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  9. अरे सैल साहब, इतनी बढ़िया बातें कहते हैं आप,खलेंगी क्यों।

    बहुत अच्छी गज़ल।
    आभार।

    ReplyDelete
  10. फल से लदकर झुक जाओ ।
    इतने ऊपर फलना क्या ॥
    waah

    ReplyDelete
  11. बहुत खूबसूरत.....

    ReplyDelete
  12. सुन्दर भावो को बखूबी पिरोया है आप ने अच्छे शब्दों में!
    वाह!सुन्दर है!

    ReplyDelete
  13. इंद्रनील दा, अच्छा प्रयास है... अच्छे भाव समेटे है आपकी ग़ज़ल..

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छी ग़ज़ल लिखी है....

    अब तो दिल को समझाओ ।
    खुद ही खुदको छलना क्या ॥


    बहुत सुंदर पंक्तियाँ हैं.....



    सैल.... मैंने कुछ भी डिसेबल नहीं किया है.... शायद कुछ और प्रॉब्लेम हो....

    ReplyDelete
  15. @ महफूज़
    आपकी टिपण्णी के लिए आभार ! गलती मेरी ही है ... मुझे पता नहीं था कि आपके दो प्रोफाइल है ... मैं आपके दुसरे प्रोफाइल में देखा था ...

    ReplyDelete
  16. कर दो जो भी करना है ।
    फिर हाथों को मलना क्या ॥

    ye sher....khub hai

    फल से लदकर झुक जाओ ।
    इतने ऊपर फलना क्या ॥

    waaah....jhukna par phal milega ye to humesha sach nahi hota..par ye hai ki jispe phal lad jate hain ..ya to wo jhuk jata hai .,...ya uspar patthar mare jate hain

    badhiya ghazal hui hai ..

    ReplyDelete
  17. खूबसूरत प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  18. परवाना सा जल जाओ ।
    टिम टिम कर यूँ जलना क्या ॥


    फैला दो अब लालिमा ।
    बादल पीछे ढलना क्या ॥
    बहुत उमदा गजल!

    ReplyDelete
  19. फल से लड़ कर झुक जाओ
    इतने उपर फलना क्या ...
    सुन्दर ..!

    ReplyDelete
  20. आप सबको अनेक अनेक धन्यवाद !

    @ स्वप्निल
    दरअसल कबीर का एक दोहा है ...
    'बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसा पेड़ खजूर ...' , मेरा यह शेर उसी के तर्ज पर लिखा गया है ...

    ReplyDelete
  21. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं!

    ReplyDelete
  22. अब तो दिल को समझाओ ।
    खुद ही खुदको छलना क्या ॥
    or
    जाने क्या कहता है ‘सैल’ ।
    उसकी बातें खलना क्या ॥
    ..betreen prasuti
    haardik shubhkamnayne

    ReplyDelete
  23. फल से लदकर झुक जाओ ।
    इतने ऊपर फलना क्या ..

    उम्दा ग़ज़ल ... नये शेरों के साथ सजी कमाल की ग़ज़ल है ... नये अर्थ तलाश रहे हैं कुछ शेर ...

    ReplyDelete
  24. प्रिय भाई गज़ल है कि नहीं कह नहीं सकते । पर रचना के भाव अच्‍छे हैं। परवाना सा जलना के स्‍थान पर परवाने सा करें तो बेहतर होगा।

    ReplyDelete
  25. gazal kya hoti hai, main bilkul nahi jaanta

    lekin is par..

    फल से लदकर झुक जाओ ।
    इतने ऊपर फलना क्या ॥

    subhanallah kahne ko jee chahta hai... bahut bahut khoob

    ReplyDelete
  26. @ उत्साही जी
    मुस्तफ्फैलुन् फैलुन् फा - इस बहर पे लिखने कि कोशिश की है ... मैं कोई बहुत बड़ा शायर नहीं हूँ ... गलतियाँ होगी ... अभी सीखने कि कोशिश कर रहा हूँ ... ग़ज़ल है या नहीं ये तो पाठक या इस विधा के जो समझदार हैं वो ही बताएँगे ...
    परवाना को परवाने कर दिया गया है ... इस सुझाव के लिए आतंरिक धन्यवाद ...

    ReplyDelete
  27. shail ji, bahut hi khoob surat gazal kuchch -kuchch sandesha deti hui. behatreen prastutikaran.
    poonam

    ReplyDelete
  28. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  29. अब तो दिल को समझाओ ।
    खुद ही खुदको छलना क्या
    bade pate ki baat keh di sir!!
    blog pe hoslaafjayi ke liye shukriya!

    ReplyDelete
  30. इन्द्रनील जी
    ग़ज़ल तो आप अच्छी लिखते ही हैं.....
    नए मिजाज़ की ग़ज़ल है.....!
    ये दो शेर खास पसंद आये....
    रुक रुक कर यूँ चलना क्या ।
    अंधेरों में पलना क्या ॥

    परवाने सा जल जाओ ।
    टिम टिम कर यूँ जलना क्या ॥


    मक्ता भी अच्छा बन पड़ा है........!
    जाने क्या कहता है ‘सैल’ ।
    उसकी बातें खलना क्या ॥

    ReplyDelete
  31. फल से लदकर झुक जाओ ।
    इतने ऊपर फलना क्या ॥
    waah , bahut khoob !!!

    ReplyDelete
  32. कर दो जो भी करना है ।
    फिर हाथों को मलना क्या ॥
    .. बहुत खूब....सोच विचार के साथ जीवन में निश्चिंतता का समावेश भी आवश्यक है.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...