Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Jan 31, 2011

धूप – चाँद – रंग – खुशबू !

धूप
उस दिन जब तुम
खड़ी थी मेज के पास,
खिडकी से आकर
धूप का एक कतरा,
छूं लिया था
तुम्हारे चेहरे को
आज भी हर रोज़  
ठीक उसी समय,
वो ता है खिडकी से,
और ढूंढते रहता है
वो छुवन !

चाँद
देखो कितना शैतान है
ये चाँद !
जब तुम थी तो
फैलाकर चांदनी,
मुस्कुराता था
आज कितनी देर से
खड़ा हूँ खिडकी के सामने,
और वो छुपकर बैठा है
बादलों के पीछे !

रंग – खुशबू
वो जो ख्वाबों के पौधे
लगाये थे हमने
साथ मिलकर;
उनपर आज खिले हैं 
सुख के फूल
रंगीन, दिलकश !
पर न जाने क्यूँ,
नहीं है
उनमें खुशबू ।

37 comments:

  1. बहुत ही बढ़िया बिम्ब और भाव.
    कमाल कर दिया सर!

    सादर

    ------
    बापू! फिर से आ जाओ

    ReplyDelete
  2. तीनो क्षणिकाएं अलग अलग रंग बिखेर रहीं हैं और विलक्षण हैं...मेरी बधाई स्वीकारें...
    नीरज

    ReplyDelete
  3. तीनो क्षणिकाएं बढ़िया हैं.

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ... क्या बात ... लगे रहिये जनाब ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. प्रिय बंधुवर इन्द्रनील जी
    सस्नेहाभिवादन !

    बहुत अच्छी प्रेम कविताएं हैं… सुंदर और शालीन ! धूप और चांद तो बहुत पसंद आई ।
    रंग-ख़ुशबू के लिए यही कहूंगा कि सुख के फूल शीघ्रातिशीघ्र सुवासित हों … आमीन !

    ( हां , "उन पर आज खिला है सुख के फूल" … # यहां 'खिला है' को सुधार कर खिले हैं कर लीजिए …

    हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  6. स्वर्णकार जी,
    आपके सुझाव के लिए धन्यवाद ... सुधार कर दिया गया है ...

    ReplyDelete
  7. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 01- 02- 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  8. भाई इंद्रनील जी

    आभार !

    अभी तृप्ति बहन के यहां कमेंट करके आया हूं…
    आप तो बहुत अच्छे कलाकार हैं ।
    आपकी लेखनी और तूलिका दोनों को नमन है !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  9. अरे दीदी, बोलने कि क्या ज़रूरत है ... :)

    ReplyDelete
  10. sail bhai...
    teeno rachnaayein boht achi hain....
    zara maatraa ka dhyaan rakhiyega...
    pehli kavita mein chhu ki jagah CHHOO ho sakta tha.....

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन "धुप" सबसे बेहतर लगी

    ReplyDelete
  12. वाह! के अलावा क्या लिखूँ? वाह!

    ReplyDelete
  13. अच्छी रचनाएं...सोंचने को मजबूर करतीं .... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  14. बिम्बों में जो बात कही है आपने उस पर मुझे कहना है,

    आंख और हाथ का बस इतना फलसफा है।
    समझो तो ठीक वरना हर मौसम ख़फ़ा है।

    ReplyDelete
  15. आज भी हर रोज़
    ठीक उसी समय,
    वो आता है खिडकी से,
    और ढूंढते रहता है
    वो छुवन !


    wahhhh........!!!! bas...aur kya kahun.....wahhh

    ReplyDelete
  16. लंबी अनुपस्थिति के बाद आया हूँ, पहचान तो लेंगे न? हा हा हा।

    तीनों रचनायें बेहद खूबसूरत, चाँद वाली यकीनन सबसे ज्यादा।

    ReplyDelete
  17. @संजय जी,
    अरे कैसे नहीं पह्चंनेंगे भई, आपका हमेशा स्वागत है ...

    @ सुरेन्द्र जी,
    सही कहा, टंकण गलती थी, सुधार ली गई है

    ReplyDelete
  18. धुप , खुशबू , चाँद ...कुदरत की नुमयिशों में शामिल है हर रंग उसकी याद का ...
    सुबह की खिली धूप- सी, पत्तो पर ओस की बूंदों- सी मोहक क्षणिकाएं !

    ReplyDelete
  19. कुदरत को कैद कर दिया

    ReplyDelete
  20. कमाल कर दिया…………तीनो ही शानदार, लाजवाब, बेहतरीन्।

    ReplyDelete
  21. तीनो रचनायें शानदार, अलग अलग भाव दर्शाती हुई । बहुत सुन्दर ।

    ReplyDelete
  22. तीनों क्षणिकायें लाज़वाब..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  23. बहुत दिनों बाद आज टिपण्णी कर रहा हूँ...तीनो नज़्म बहुत अच्छी लगीं और आपको आपकी कलाकारी के लिए भी बधाई देनी थी....
    वाह...

    ReplyDelete
  24. वाकई दिल से निकली अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  25. उनपर आज खिले हैं
    सुख के फूल

    बहुत ही बढ़िया बिम्ब ......दिल से निकली ....
    लाज़वाब..बहुत सुन्दर....
    बधाई

    ReplyDelete
  26. हमें तो वैसे भी धूप चाँद और खुशबू बहुत पसंद हैं फिर आपका अंदाज़ उसमें चार चाँद लगा गया

    ReplyDelete
  27. तीनो रचनायें शानदार, अलग अलग भाव दर्शाती हुई । बहुत सुन्दर|

    ReplyDelete
  28. Tino kshanikaayen man ko tarangit karati hain.
    Sundar abhivyakti ke liye abhaar

    ReplyDelete
  29. सुंदर क्षणिकाएं..... धूप तो बहुत ही पसंद आई.....

    ReplyDelete
  30. bahut khoob ! very Gulzaresqe
    invite you to visit :

    http://poeticbreak.blogspot.com/2011/01/blog-post_23.html

    ReplyDelete

  31. बेहतरीन पोस्ट लेखन के लिए बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है - पधारें - ठन-ठन गोपाल - क्या हमारे सांसद इतने गरीब हैं - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

    ReplyDelete
  32. आपकी ये तीनो क्षणिकाएं बहोत ही अच्छी लगी .....लाजवाब

    ReplyDelete
  33. tino rachnaye bahut khubsurab lagi.....

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...