Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Jan 1, 2011

मनाते हैं आरंभ की खुशी


कभी छोटा,
कभी बड़ा,
कालखंडो में बंटा
मानव इतिहास,
मानव जीवन
जैसे पन्नों में बंटी
किताब
अब मौका है
कि पन्ना पलटो,
और लिखना शुरू करो
नए पन्ने पर
कुछ नए शब्द,
नई भाषा,
शायद पाठक भी नए हो !
एक अंत ही
एक शुरुआत है
मुहूर्त, पहर, दिन, महीना, साल
में बंटा जीवन,
को जीते हैं
मनाते हैं आरंभ की खुशी
भूल कर अंत का गम
सबसे कहते हैं
मुबारक हो आपको
२०११

36 comments:

  1. नव वर्ष की आपको और आपके पूरे परिवार को हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. सुंदर प्रस्तुति..........नये वर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ...नववर्ष की शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  4. laazwaab rahi rachna ,nav barsh ki badhiyaan .

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन!अभिव्यक्ति

    आप को सपरिवार नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं .

    सादर

    ReplyDelete
  6. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं...साल का शुभारंभ बेहद खूबसूरत कविता से किया है आपने...बधाई..

    नीरज

    ReplyDelete
  7. नववर्ष मुबारक हो आपको एवं आपके परिवार के लिए
    सुखकर एवं मंगलकारी हो...
    ।।शुभकामनाएं के साथ ।।

    "बहुत प्यारा सफ़र रहा 2010 का
    अपना साथ 2011 मे भी बनाए रखना"

    आपका सवाई

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन कविता....
    नया साल मुबारक हो...

    ReplyDelete
  9. अब मौका है
    कि पन्ना पलटो,
    और लिखना शुरू करो
    नए पन्ने पर

    आज पहला पन्ना खुला हुआ है.अब बातों का सिलसिला बंद करके जल्दी से लिखना शुरू करिये.वरना एक पेज कोरा चला जायेगा.
    नए साल की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...जीवन जैसे किताब ..पन्ने दर पन्ने भरते ही जाते हैं ..नए सफे पर कुछ नया रचने की प्रेरणा ...


    नव वर्ष की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  12. अत्यंत ही सुन्दर प्रस्तुति

    नव वर्ष मंगलमय हो, आपके जीवन को नए आयाम दे

    ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत रहेगा
    http://arvindjangid.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. आपको तथा आपके परिवार के सभी जनों को वर्ष २०११ मंगलमय,सुखद तथा उन्नत्तिकारक हो.

    ReplyDelete
  14. सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
    सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
    सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
    सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
    सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

    साल ग्यारह आ गया है!

    ReplyDelete
  15. सुंदर अभिव्यक्ति...नव वर्ष मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  16. सुंदर चिंतन-नूतन वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. Naya saal bahut,bahut mubarak ho!

    ReplyDelete
  18. अच्छी पोस्ट ,नववर्ष की शुभकामनाएं । "खबरों की दुनियाँ"

    ReplyDelete
  19. आपको भी हो बहुत मुबारक नव वर्ष का यह उपहार !

    ReplyDelete
  20. बिलकुल सही कहा। अच्छी रचना के लिये बधाई। आपको और आपके पूरे परिवार को नये साल की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  21. मानव जीवन ।
    जैसे पन्नों में बंटी
    किताब ।
    अब मौका है
    कि पन्ना पलटो,
    और लिखना शुरू करो
    नए पन्ने पर ।
    कुछ नए शब्द,
    नई भाषा,

    ज़िंदगी का एक वर्ष व्यतीत करना एक पन्ना पलटना ही तो है।
    बहुत गहरी बात को अनूठे शब्द दिए हैं आपने।

    ReplyDelete
  22. सुन्दर सोच और सुन्दर कविता , नए साल की शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  23. naye saal ki hardik shubhkamnaye.

    ReplyDelete
  24. sail bhai naya saal aapke jeevan mein khushiyaan le ke aaye!

    ReplyDelete
  25. पूर्वालोकन और भविष्य की आशा .... यही तो जीवन है ...
    सार्थक रचना है ... आपको नव वर्ष बहुत बहुत मंगलमय हो ...

    ReplyDelete
  26. बहुत सुंदर रचना और नए साल की शुरूआत का अंदाज़. लगता है इस साल की घड़ी को आपने अति fast mode में डाल दिया है :))

    ReplyDelete
  27. @ भूषण जी,
    समय अति तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है ... मानव जीवन क्षण मात्र का है ...

    ReplyDelete
  28. सैल भाई, यह खुशियां यूं ही कायम रहें, यही कामना है।

    ---------
    मिल गया खुशियों का ठिकाना।

    ReplyDelete
  29. बहुत अच्छी रचना

    आपको भी नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  30. आप और आपके परिवार को नववर्ष की मंगल कामना!

    ReplyDelete
  31. बहुत अच्छी रचना. लेकिन एक समस्या है. आपके ब्लॉग में कमेन्ट बॉक्स में कलर मेचिंग सही नहीं है. कमेन्ट करने वालो का नाम नज़र ही नहीं आता है. और पोस्ट के नीचे लिखे कमेन्ट भी नहीं दिखते.

    ReplyDelete
  32. संजय जी, लीजिए मैंने रंगों में काफी फेरबदल किया है ... वैसे पहले भी दिख रहा था पर अब और बेहतर दिख रहा है और सब कुछ साफ़ नज़र आ रहा है ... उम्मीद है पढ़ने की समस्या सुलझ जायेगी ...

    ReplyDelete
  33. बेहतरीन!अभिव्यक्ति
    सच ये तीन सौ पैंसठ पन्ने कब भर गए पता ही नहीं. चला आओ मिल कर इसे सहेजें. नए साल की शुभकामनाये

    ReplyDelete
  34. सुन्दर रचना

    नया साल मुबारक हो

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...