Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Jan 5, 2011

बस पराई पीड़ देख




गगन में तू कृष्णकाय बादलों की भीड़ देख
अश्रुजल में भग्नप्राय स्वप्न का तू नीड़ देख ॥

असहनीय यातना हो, मन में तीव्र कष्ट हो
दिखा ना तू दर्द हाय, बस पराई पीड़ देख ॥

गरीबों में इन्कलाब कैसे आएगा बता
अभावों की वेदना से झुक गई है रीढ़ देख ॥

समस्या का सामना तू ‘सैल’ करना सीख ले
पहाड़ों पर गर्वोन्नत सर खड़ा है ची देख

चित्र साभार गूगल सर्च !

38 comments:

  1. गरीबों में इन्कलाब कैसे आएगा बता ।
    अभावों की वेदना से झुक गई है रीड़ देख ॥

    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  2. यथार्थ को दर्शाती एक बेहतरीन प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. असहनीय यातना हो, मन में तीव्र कष्ट हो ।
    दिखा ना तू दर्द हाय, बस पराई पीड़ देख ...

    हिंदी में लिखी एक बेहतरीन ग़ज़ल ... सत्य लिखा है ... सच्चाई ....

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. bahut sunder rachna

    mere blog par
    "mai aa gyi hu lautkar"

    ReplyDelete
  6. सैल भाई बधाइयों की टोकरी स्वीकारें...इतनी अच्छी रचना है आपकी के क्या कहूँ? शब्द और भाव का अद्भुत संगम दिखाई दिया...मुश्किल लगने वाले शब्दों को जिस सरलता से आपने रचना में बाँधा है उस से आपके लेखन की श्रेष्ठता का अंदाजा हो जाता है...


    नीरज

    ReplyDelete
  7. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (6/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  8. गरीबों में इन्कलाब कैसे आएगा बता ।
    अभावों की वेदना से झुक गई है रीड़ देख ॥
    हकीकत यही है
    पर फिर

    समस्या का सामना तू ‘सैल’ करना सीख ले ।
    पहाड़ों पर गर्वोन्नत सर खड़ा है चीड़ देख ॥
    की सकारात्मकता भा गयी

    ReplyDelete
  9. sail bhai kya gazab ki hindi ka prayog kiya hai bhai...mazaa aa gaya bas ek chhota sa correction mujhe lagta hai shaayad ho sakta hai...

    reed ki jahag shaayad REEDH hona chahiye....

    DHAKKAN wala DH....

    ReplyDelete
  10. सुंदर कविता भाई साब

    आभार

    ReplyDelete
  11. Surendra jee, bahut dhanyavaad galati ki taraf dhyan akarshan karne ke liye ... sudhaar liya gaya hai ...

    ReplyDelete
  12. समस्या का सामना तू ‘सैल’ करना सीख ले ।
    पहाड़ों पर गर्वोन्नत सर खड़ा है चीड़ देख ॥
    vah, kya baat hai. sundar sher.

    ReplyDelete
  13. बहुत ही बढ़िया कविताई कर रहे हैं आप. पढ़ कर मज़ा आ जाता है. Keep it up.

    ReplyDelete
  14. Kya kamaal ke alfaaz hain! Harek pankti lajawaab hai!

    ReplyDelete
  15. प्रकृति से प्रेरणा।

    ReplyDelete
  16. नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  17. Lajawab Kya kahane!

    ReplyDelete
  18. सुंदर प्रस्तुति... मन को छू गयी रचना

    ReplyDelete
  19. गगन में तू कृष्णकाय बादलों की भीड़ देख ।
    अश्रुजल में भग्नप्राय स्वप्न का तू नीड़ देख ॥
    aatmik shakti ka sanchaar tabhi hota hai...
    likhne mein ek gahan jhalak kee vidyut rekha hai

    ReplyDelete
  20. असहनीय यातना हो, मन में तीव्र कष्ट हो ।
    दिखा ना तू दर्द हाय, बस पराई पीड़ देख ॥

    गरीबों में इन्कलाब कैसे आएगा बता ।
    अभावों की वेदना से झुक गई है रीढ़ देख ॥
    पूरी गज़ल ही लाजवाब है लेकिन ये शेर दोनो कमाल के बन पडे हैं। बधाई आपको।

    ReplyDelete
  21. गगन में तू कृष्णकाय बादलों की भीड़ देख ।
    अश्रुजल में भग्नप्राय स्वप्न का तू नीड़ देख ॥

    हिंदी में सुंदर ग़ज़ल।
    शब्दों और भावों का उत्तम सामंजस्य।
    अप्रतिम शब्द चयन।

    ReplyDelete
  22. वाह वा वाह वा !
    असरदार रचना के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  23. वाह , परहित सरस धरम नहीं भाई वाली उक्ति चरितार्थ करती सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  24. असहनीय यातना हो, मन में तीव्र कष्ट हो ।
    दिखा ना तू दर्द हाय, बस पराई पीड़ देख ॥
    waah bahut khoob ,bas yahi sahi hai,harek pankti sundar .

    ReplyDelete
  25. सुंदर प्रस्तुति| पूरी गज़ल लाजवाब है|

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छे भाव हैं !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन ग़ज़ल

    ReplyDelete
  28. सैल जी, बहुत अच्‍छी बातें कहीं। इस सार्थक गजल के लिए बधाई स्‍वीकारें।

    ---------
    बोलने वाले पत्‍थर।
    सांपों को दुध पिलाना पुण्‍य का काम है?

    ReplyDelete
  29. असहनीय यातना हो, मन में तीव्र कष्ट हो ।
    दिखा ना तू दर्द हाय, बस पराई पीड़ देख ॥

    great......shabdon ka utkrisht samanway.....behtareen abhivyakti...

    dikha na dard tu haai....bas paraai peeda dekh........kya baat hai!!!!!!

    vo kehte hain ma......man ki peera man hi rakho goya.........

    ReplyDelete
  30. kya khoob likha hai sir...aur aapki hindi ek alag hi flavor deti hai yahan, bohot khoob

    ReplyDelete
  31. कल 25/06/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी http://nayi-purani-halchal.blogspot.in (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  32. समस्या का सामना तू ‘सैल’ करना सीख ले ।
    पहाड़ों पर गर्वोन्नत सर खड़ा है चीड़ देख ॥

    ReplyDelete
  33. बहुत बहुत धन्यवाद यशवंत ! आप सच में नई पुरानी रचनाओं को संजोकर ब्लॉग जगत के लिए सराहनीय काम कर रहे हो ....

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...