Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Nov 28, 2010

क्या किया है तुने खुदा बनके


आज बैठकर एक सुन्दर ग़ज़ल सुन रहा था । सोचा क्यूँ न इसी बहर में कुछ लिखा जाये सुनते सुनते जेहन में अपने आप निम्नोक्त पंक्तियाँ आ गयी । अब आप ही बताइए कि ग़ज़ल कैसी लगी ?

क्या किया है तुने खुदा बनके
तू बता सब का आसरा बनके
जिंदगी ने छुड़ा लिया दामन
मौत आई है मेहरबां बनके
ये न पूछो कि कैसे महफ़िल में
जलते रहता हूँ मैं शमा बनके
दर्द मुझको पता न था क्या है
उसने समझाया बेवफा बनके
क्यूँ खड़ा फिर वही नज़ारा है
सामने आज इम्तहां बनके
इतने पागल हैं, आह भी दिल से
आज निकली है बस दुआ बनके
क्या तूफां से गिला है जब छोड़ा
“सैल” कश्ती को नाखुदा बनके ॥


अरे ठहरिये ठहरिये , इतनी भी जल्दी क्या है ... टिप्पणी दे दीजियेगा ... पर अभी फिलिम खतम नहीं हुई है ... कहानी अभी बाकि है मेरे भाई ...
आपको ये बताना है कि वो कौन सी ग़ज़ल है जिसे सुनकर मेरे जेहन में ये पंक्तियाँ आई है ...
हिंट दे देता हूँ ... इस ग़ज़ल को जगजीत सिंह जी ने गाई है ...
आप बहर पे ध्यान दीजिए ... सवाल बहुत आसान है ... जवाब का इंतज़ार रहेगा ...


चित्र साभार मेरी प्रियतमा तृप्ती .

48 comments:

  1. जलते रहता हूँ मैं शमा बनके ॥
    दर्द मुझको पता न था क्या है ।

    aur ye bhee..

    क्या तूफ़ान से गिला है जब छोड़ा ।
    “सैल” कश्ती को नाखुदा बनके ॥
    Kya gazab ke ashaar hain!

    ReplyDelete
  2. अजी जगजीत जी के बारे में बाद में सोचेंगे..
    फिलहाल तो आपकी ग़ज़ल में ही डूब जाते हैं....बहुत ही सुन्दर...वाह...

    पहचान कौन...

    ReplyDelete
  3. भा गयी आपकी गजल ........शुक्रिया

    ReplyDelete
  4. बहुत ही भावभीनी गज़ल्।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर गज़ल्. पहेली के बारे में सोचा नहीं जब याद आ गई तो बता दूंगी

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर रचना................

    ReplyDelete
  7. जगजीत जी तो जगजीत जी हैं .पर आपका भी जबाब नहीं.

    ReplyDelete
  8. आप सबको बहुत बहुत शुक्रिया ग़ज़ल को सराहने के लिए :)
    पर शायद कोई भी सवाल का जवाब देना नहीं चाहता है ... :(

    ReplyDelete
  9. ग़ज़ल तो लाजवाब है परन्तु पहेली हमारे लिए कठिन है.

    ReplyDelete
  10. raam raam ji,
    shekhar suman ji bilkul sahi keh rahe hai!
    abhi yaha raspaan kar le,baaki baad me sochenge....

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया ग़ज़ल प्रस्तुति ..... आभार

    ReplyDelete
  12. बेहद भावपूर्ण अभिव्यक्ति.........

    http://saaransh-ek-ant.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. इतनी बढ़िया ग़ज़ल कही है कि लगता नहीं कि इसे कहने वाला बंगलाभाषी है. सैल जी, सुपर्ब.

    ReplyDelete
  14. दर्द मुझको पता न था क्या है ।
    उसने समझाया बेवफा बनके ॥
    ग़ज़ल में दर्द और उम्मीद दोनों है


    http://www.youtube.com/watch?v=PmvhORbmlMo&feature=related

    http://www.youtube.com/watch?v=Vk4Q832wKC8&feature=related

    pariksha me paas hue ?

    ReplyDelete
  15. didi hun, cheating kar sakte the , imaandari ke liye shabashi milegi n bhai

    http://www.youtube.com/watch?v=0aL31Z_cXUA&feature=related

    ReplyDelete
  16. सॉरी दीदी, जवाब सही नहीं है ...
    पर आपने ईमानदारी से कोशिश की है ... शुक्रिया !

    ReplyDelete
  17. भूषण जी, शुक्रिया ... बस कोशिश कर रहे हैं इस भाषा को सीखने की ...

    ReplyDelete
  18. gazal ke sath-sath aapka prastuti ka tarika bahut hi rochak laga .

    ReplyDelete
  19. दर्द मुझको पता न था क्या है ।
    उसने समझाया बेवफा बनके ॥
    दिल को भा गयी पंक्तियाँ ...पूरी गजल बांधे रखती है ..शुक्रिया
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  20. sail ji
    itani sundarta se gazal likhne v padhwane ke liye aapko bauhut bahut dhanyvaad.xhma kijiyega main ye nahi bata sakti ki gazal koun si hai.
    par jo aapne likhi vo bhi man ko bahut hi bhayi.
    poonam

    ReplyDelete
  21. दर्द मुझको पता न था क्या है ।
    उसने समझाया बेवफा बनके ।

    बहुत अच्छा शे‘र...पूरी ग़ज़ल काबिले तारीफ़ है।

    ReplyDelete
  22. दर्द मुझको पता न था क्या है ।
    उसने समझाया बेवफा बनके
    वाह बहुत सुन्दर गज़ल है. सभी शेर सुन्दर हैं.

    ReplyDelete
  23. दर्द मुझको पता न था क्या है ।
    उसने समझाया बेवफा बनके ॥
    ... bahut khoob !!!

    ReplyDelete
  24. "दर्द मुझको पता न था क्या है ।
    उसने समझाया बेवफा बनके !"

    आनंद आ गया ..धन्यवाद आपका

    ReplyDelete
  25. sab ek hi sher quote kiye jaa rahe hain, bhai mujhe to poori ghazal behad umda lagi, aapko padhkar bada accha laga.....

    dil-e-naadan tujhe hua kya hai
    bhala is dard ki wajah kya hai

    kuch kuch is se milti hai behr, aisa laga mujhe, phir bhi nahin lagta ye sahi jawaab hai, kaii ghazlein is behr si hain, haina. ab aap h bataaiye ;)

    ReplyDelete
  26. @ saanjh
    चलिए, सब एक ही शेर कोट कर रहे हैं ... तो शायद वो शेर अच्छा बन पड़ा होगा ... सभी को धन्यवाद सराहने के लिए ...
    आपने जिस ग़ज़ल की बात की है उससे शायद मेरी ग़ज़ल का बहर थोडा अलग है ... कल एक पोस्ट डाल दूंगा जिसमें उस ग़ज़ल का लिंक दूंगा ... आप सब उसे सुन सकते हैं ...
    जब मैंने लुत्फ़ उठाया है तो सबको उठाना चाहिए ... है न ?

    ReplyDelete
  27. सैल जी इस बेहतरीन गज़ल के लिए सबसे पहले दाद कबूल करें...हर शेर बहुत खूबसूरत बन पड़ा है...वाह..वा...आपके इस शेर :

    जिंदगी ने छुड़ा लिया दामन ।
    मौत आई है मेहरबां बनके ॥

    को पढ़ कर मुझे एक शेर याद आ गया:

    मौत कितनी भी संगदिल हो मगर
    जिंदगी से तो महरबाँ होगी

    नीरज

    ReplyDelete
  28. इतने पागल हैं, आह भी दिल से ।
    आज निकली है बस दुआ बनके ॥
    ग़ज़ल दिल को छू गई।
    बेहद पसंद आई। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    विचार::पूर्णता

    ReplyDelete
  29. दर्द मुझको पता न था क्या है ।
    उसने समझाया बेवफा बनके ॥
    अरे वाह, क्या बात है ,आपमें ग़ज़ल के गुण भी हैं, खूब है खूब ,वाह

    ReplyDelete
  30. @ नीरज गोस्वामी जी, मनोज कुमार जी और कुंवर कुसुमेश जी ...
    आप सभी का अनेक शुक्रिया ...

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने ! हर एक पंक्तियाँ लाजवाब लगा! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  32. दर्द मुझको पता न था क्या है ।
    उसने समझाया बेवफा बनके..

    ये तो हसीनों की अदा है ... सब कुछ सिखा देती हैं .. और दर्द में तो उनकी मास्टरी है ..

    ReplyDelete
  33. @ नासवा जी,
    क्या खूब कही आपने ... लगता हैं हमदर्द हैं आप ...

    @बबली जी
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  34. इतने पागल हैं, आह भी दिल से ।
    आज निकली है बस दुआ बनके ॥

    यूं तो हर पंक्ति लाजवाब है, पर यह पंक्तियां कुछ खास बन पड़ी हैं ...बधाई ।

    ReplyDelete
  35. bahut hi sundar gazal. padkar acha laga.

    ReplyDelete
  36. बहुत बढ़िया ग़ज़ल....

    पहेली तो लोग बुझा ही रहे हैं. :)

    ReplyDelete
  37. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी इस रचना का लिंक मंगलवार 30 -11-2010
    को दिया गया है .
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    ReplyDelete
  38. आपकी ग़ज़ल बेहद प्यारी है...
    और यकीन मानिये, आपके सवाल के हल की खोज जारी है...
    जैसे ही मिलती है सूचित करती हूँ...

    ReplyDelete
  39. .

    उम्दा ग़ज़ल -आभार।

    .

    ReplyDelete
  40. जवाब तो आप अपनी ताज़ी पोस्ट में दे ही चुके है साहब, जहाँ तक आपकी ग़ज़ल का सवाल है, तो अगर ये आपकी पहली ग़ज़ल है, या आप कभी कभार ही लिखते है तो यह काफी अच्छा प्रयास है. आप शायद अ हिंदी भाषी है, इसलिए भाव में कहीं कहीं समझ नहीं बैठती होगी... अगर सुझाव लेना चाहे तो यह है की, बनाते समय अगर आप गुनगुना के बार बार लफ़्ज़ों को आजमाते रहे, तो बहर अपने आप की सही बैठता जाएगा ....बाकी आपकी ग़ज़ल के कुछ शेर खासे अच्छे बने है ... इसी तरह जारी रखिये ....

    ReplyDelete
  41. ये न पूछो कि कैसे महफ़िल में
    जलते रहता हूँ मैं शमा बनके....दर्द से भरी भावपूर्ण ग़ज़ल

    ReplyDelete
  42. मज़ा आ गया ये ग़ज़ल पढ़ कर.

    सादर

    ReplyDelete
  43. @मजाल जी
    आपके सुझाव के लिए शुक्रिया ! कोशिश करूँगा कि बेहतरी हो पाए ..
    इसी तरह मार्गदर्शन करते रहे ...

    ReplyDelete
  44. "मौत आई है मेहरबां बनके"


    जब जिंदगी ही खुद की उजूल-फिलूल हरकतों से बेजा हो जाए तो फिर मौत तो श्याद मेहरबा ही लगेगी ...

    मन को छु लेने वाली गज़ल .....

    और नीरज की टीप से
    मौत कितनी भी संगदिल हो मगर
    जिंदगी से तो महरबाँ होगी

    सही में हमारी ही ऑंखें बंद है.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...