Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Oct 4, 2011

तीन क्षणिकाएं - नष्ट चाँद !


१)

शांत मन के झील में जो 
अक्सर उतर आता था
उज्जवल और स्पष्ट कभी,
आज इस अस्थिर चित्त 
में नहीं दिख पाता है 
अस्पष्ट चाँद !

२)

बड़ी कुटिल है
मुस्कान उसकी !
चुभती बड़ी है दिल में !
खुद झुककर मैंने 
हिला दिया पानी के 
शांत सतह को,
जाओ नहीं देखना है मुझे 
नष्ट चाँद !

३)

क्यूँ ढके रहते हो 
एक पक्ष अँधेरे में ?
कहाँ जाते हो 
अमाबस के दिन ?
इतना क्यूँ देते हो मुझे 
कष्ट चाँद ?

30 comments:

  1. अतिसुन्दर

    जय माता दी.. दुर्गा पूजा की हार्दिक शुभकामनाए...

    ReplyDelete
  2. आते-जाते-भाते चांद.

    ReplyDelete
  3. sundar rachnaa hai.. chand na tabhi amawas hoti hai... amawas par hi chand ki mahatwtaa aur badhati hai...

    ReplyDelete
  4. क्यूँ ढके रहते हो
    एक पक्ष अँधेरे में ?
    कहाँ जाते हो
    अमाबस के दिन ?
    इतना क्यूँ देते हो मुझे
    कष्ट चाँद ?

    बेहतरीन क्षणिकाएं ...।

    ReplyDelete
  5. भाव पूरी तरह संप्रेषित हुए हैं. सुंदर क्षणिकाएँ.

    ReplyDelete
  6. चाँद अर्थात चंद्रमा मन का कारक होता है और आपकी यह रचना मनभावन है।

    ReplyDelete
  7. बड़ी कुटिल है
    मुस्कान उसकी !
    चुभती बड़ी है दिल में !
    खुद झुककर मैंने
    हिला दिया पानी के
    शांत सतह को,
    जाओ नहीं देखना है मुझे
    नष्ट चाँद !

    ये क्षणिका मुझे बहुत पसंद आई

    ReplyDelete
  8. तीनो ही अद्भुत शानदार दिल को छूती हैं।

    ReplyDelete
  9. उद्वेलित करती मन को भाव कणिकाएं .अच्छे बिम्ब प्रतिबिम्ब उभरते बिगड़ते .

    ReplyDelete
  10. छा गए भाई साहब भाव कणिका एक तरफ और नैन सुख सरकार के लिए एक बायोनिक आई आपकी टिपण्णी का व्यंग्य विनोद एक तरफ .बहुत खूब .

    ReplyDelete
  11. kitni badi baat kah di -asthir chitt mein spasht chaand nahi deekhta !

    ReplyDelete
  12. चान्द के माध्यम से आपने मन की बात कही। बहुत ही स्पंदित कर गई ये क्षणिकाएं।

    ReplyDelete
  13. एक ही कविता की तीन अलग-अलग पर्तें !
    अस्पष्ट चांद, नष्ट चांद और कष्ट चांद...
    सुंदर प्रयोग।

    ReplyDelete
  14. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! अद्भुत सुन्दर क्षणिकाएं ! लाजवाब प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  16. bahut achi rachna,kum shabdon me ache bhaav sampreshit kie hain aapne,badhaai!

    ReplyDelete
  17. सुन्दर क्षणिकाएं हैं. बधाई.

    ReplyDelete
  18. सुन्दर क्षणिकाएं,शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  19. हर क्षणिका में चाँद का सौंदर्य अक्षुण्ण है.

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर क्षणिकाएँ ...

    ReplyDelete
  21. कहाँ जाते हो
    अमाबस के दिन ?
    बहुत अच्छा प्रश्न।अच्छी प्रस्तुती।

    ReplyDelete
  22. अच्छी प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  23. बहुत बहुत धन्यवाद शेखर !

    ReplyDelete
  24. इतने कम शब्दों में जो जिगाषाएं और प्रश्न प्रतुत किये ,
    अतुलनीय !

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर कविता.....
    फोटोग्राफी भी मुझे पसंद है मगर कविता की खोज में इतना पीछे आना पड़ा :-)

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनु जी, कविता तो आपको मेरे ब्लाग पर बहुत सारी मिल जायेगी, धन्यवाद !

      Delete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...