Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Mar 7, 2013

उजाले

1.
सिरहाने चांदनी रखकर
सो गया था मैं,
रातभर ...
सोने नहीं दिया
ख्वाबों के उजाले ।

2.
बहुत उदास होकर
आँखें बंद कर ली मैंने,
जैसे थक गई हो आँख
उजालों के शोर से ।

3.
तुम जो कल
ख्वाबों में आ गई थी,
मेरी अँधेरी रात के बदन पर
लग गए थे
कुछ उजालों के दाग ।

17 comments:

  1. उजाला स्प्शल :)

    पहले वाले में ’ने’ जोड़ कर देखें इन्द्रनील जी, शायद रह गया।

    ReplyDelete
  2. अँधेरा, ख्वाब और उजाले के समिश्रण से सुंदर छटा है इस प्रस्तुति में.

    काफी समय बाद परन्तु बहुत सुंदर,

    ReplyDelete
  3. वाह..... बहुत खूब!

    ReplyDelete
  4. उजाले के यह रंग बहुत अच्छे लगे सर!


    सादर

    ReplyDelete

  5. दिनांक 11/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. एहसासों का शब्दमाला

    ReplyDelete
  7. सार्थक रचना .....
    आप भी पधारो स्वागत है ...
    http://pankajkrsah.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. very nice...शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. आज कल आप ब्लॉग छोडकर फोटोग्राफी में ही व्यस्त हैं, लेकिन कुछ लिखा पढ़ने का भी इंतज़ार है....

    ReplyDelete
  10. Amazing blog and very interesting stuff you got here! I definitely learned a lot from reading through some of your earlier posts as well and decided to drop a comment on this one!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...