Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Aug 30, 2011

कुछ तस्वीर ... आप सबके लिए !

बचपन से पेंटिंग का बहुत शौक था । खासकर पोर्ट्रेट पेंटिंग का । आयल पेंट से पोर्ट्रेट बनाता था । कई लोगों का पोर्ट्रेट बनाया था, जैसे कि मेरे पिताजी का, दादाजी का, और कई यशस्वी व्यक्तिओं का जैसे कि जे आर डी टाटा, स्वामी विवेकानंद इत्यादि । कई बार किसी के कहने पर भी पोर्ट्रेट बना देता था । जैसे कि एकबार मेरे एक दोस्त की माताजी का देहांत होने के बाद उसके अनुरोध पर मैंने उसकी माताजी का एक पोर्ट्रेट बना दिया था जो आज भी उसके घर के दीवार पर लगा हुआ है ।
जैसे जैसे करिअर में आगे बढ़ता गया, समय कम मिलता रहा । फिर नौकरी, शादी और एक सुन्दर सी, प्यारी सी बेटी का बाप बन गया, और अब तो पेंटिंग करने की फुर्सत बिलकुल नहीं रही । लेकिन अब एक और शौक ने उसकी जगह ले ली है ... फोटोग्राफी ।
अब कैमरा को ही अपना ब्रश बनाकर प्रकृति के सौंदर्य और अपने आसपास के दृश्यों को कैद करते रहता हूँ । कोई सुन्दर सा फोटो लेने के बाद एक अजीब सा सुकून का एहसास होता है । किसी सुन्दर से पल को कैमरे में कैद कर पाऊं तो खुद पर गर्व होता है कि सही समय पे फोटो ले पाया । अपनी ही ली हुई बेटी की किसी तस्वीर को बारबार देखता हूँ और सोचता हूँ कि किस तरह वो बड़ी हो रही है ।
तो सोचा आज क्यूँ न आप सबके साथ कुछ ऐसे फोटो सांझा करूँ जो मैंने अपने कैमरे से लिया है और मेरी क्षुद्र समझ से अच्छा ही लिया है ।
किसी चीज़ की तस्वीर को बहुत पास से लिया जाय तो उसे मैक्रो (Macro) फोटोग्राफी कहते हैं । और कोई चीज़ दूर में हो और उसकी तस्वीर उतारा जाय तो उसे ज़ूम (Zoom) फोटोग्राफी कहते हैं । मैंने मैक्रो द्वारा कई फूलों के सौंदर्य को तस्वीर में कैद करने की कोशिश की है तो कई बार कोई पंछी की तस्वीर ली जो दूर किसी पेड़ की डाली पर बैठकर कलरब कर रहा था ।

ओ फूलों की रानी, बहारों की  ....

ये नीली नीली आँखें ...

म्हारे हिवड़ा में नाचे मोर ...

फूलों के रंग से...

एक था गुल और ...

इस फूल को पहचानिये तो ...

White-breasted Waterhen (Amaurornis phoenicurus)

Brahminy Myna (Sturnus pagodarum)

Black-winged Kite (Elanus caeruleus)

30 comments:

  1. फोटोग्राफी की जानकारी के साथ बहुत सुंदर फोटो क्या बात है यह शौक कभी ना छोड़ना .......

    ReplyDelete
  2. @ Sunik Kumar jee
    बहुत धन्यवाद ! छोड़ने का सवाल ही नहीं पैदा होता है ... डिजिटल फोटोग्राफी का युग है ... :)

    ReplyDelete
  3. आपकी फोटोग्राफी कमाल की है सर।

    सादर

    ReplyDelete
  4. कैमरे की आंख से प्रकृति को निहारना एक सुखद अनुभूति देता है।
    चित्रों में जीवंतता है।

    ReplyDelete
  5. लाज़वाब चित्र...

    ReplyDelete
  6. आपका यह शौक मुझे भी प्रेरित कर रहा है।
    फूलों के तस्वीर लाजवाब हैं। एक लाइन में दिया गया शीर्षक उसमें चार-चांद लगा रहे हैं।

    ReplyDelete
  7. आप सबको धन्यवाद ...
    अभी तक किसीने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया है ... मैंने एक फूल पर पूछा है कि क्या कोई इसे पहचान सकता है ?

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर तस्वीरें..अच्छी जानकारी भी.

    ReplyDelete
  9. इन्द्रनील भाई जबा तो नहीं है यह फूल ... पर मैंने जबा हमेशा लाल ही देखा है ... खैर जो भी हो आप बताएं ... सभी फोटो बहुत अच्छी आई है ... बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. Wah! Behad sundar photographs hain!

    ReplyDelete
  11. प्रेषित मेरी ओर से,शुभकामना हज़ार.

    शुभकामना हज़ार,सभी हिन्दू-मुस्लिम को.

    ब्लॉगर्स मीट वीकली (6) Eid Mubarak में आपका स्वागत है।
    इस मुददे पर कुछ पोस्ट्स मीट में भी हैं और हिंदी ब्लॉगिंग गाइड की 31 पोस्ट्स भी हिंदी ब्लॉग जगत को समर्पित की जा रही हैं।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर तस्वीरें..अच्छी जानकारी भी

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत चित्र माला ..... जहाँ तक मुझे लगता है वो फ़ूल भिन्डी का है ... गलत भी हो सकता है ..:):)

    ReplyDelete
  14. आप सभी को धन्यवाद !
    शिवम जी आप इस बार गलत हो गए, ये जबा का फूल नहीं है ... :(
    और संगीता जी का तीर सही निशाने पर है ... ये दरअसल भिन्डी का फूल है :)

    ReplyDelete
  15. bahut sunder pyari tasvire hai....

    ReplyDelete
  16. सभी चित्र मनोहारी और आकर्षक हैं।

    ReplyDelete
  17. सुन्दर तस्वीरें.

    जैसे ही आसमान पे देखा हिलाले-ईद.
    दुनिया ख़ुशी से झूम उठी है,मनाले ईद.
    ईद मुबारक

    ReplyDelete
  18. फोटोग्राफी कला है और शब्दों से बहुत अधिक कह जाती है. चित्रों का क्वालिटी उम्दा है. आपसे उधार ले सकता हूँ? :))

    ReplyDelete
  19. भूषण जी, आप बिलकुल उधार ले सकते हैं ... :)

    ReplyDelete
  20. WONDERFUL THOUGHTS.....WONDERFUL PHOTOGRAPHS....

    ReplyDelete
  21. वाह ’सैल’ जी,
    खूबसूरत चित्र और सूटेबुल कैप्शंस, बहुत खूब।

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर चित्र! प्रशंग्सनीय प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  23. यह अच्‍छा शौक है। आपके जैसा कैमरा तो मेरे पास नहीं है, पर पिछले कुछ दिनों से एक साधारण डिजीटल कैमरे का उपयोग मैं भी ऐसी ही तस्‍वीरें खींचने में कर रहा हूं। अपने ब्‍लाग में तो ज्‍यादातर खुद के द्वारा ली गईं तस्‍वीरें ही इस्‍तेमाल करता हूं। आपके चित्र भी सुंदर हैं।

    ReplyDelete
  24. बहुत ही अच्‍छी यह सचित्र प्रस्‍तुति ... शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  25. आप सबको धन्यवाद चित्रों को सराहने के लिए ...
    @राजेश जी, धन्यवाद सराहने के लिए ... आचा कैमरा हो तो चित्र भी अच्छे आते हैं ... पर चित्र की गुणबत्ता केवल कैमरे पर निर्भर नहीं है ... फोटोग्राफर की कल्पनाशक्ति और दक्षता पर भी निर्भर करती है ... अगर आपमें कल्पनाशक्ति है ... तो साधारण कैमरे से भी आप असाधारण चित्र ले सकते हैं ...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...