Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Jun 8, 2011

इर्ष्या-फूल-दोस्ती : तीन क्षणिकाएं !


१)
झोपड़े में 
दीपक की रौशनी को देख,
फिर इर्ष्या से जल गया, 
महल का
झाड़ फानूस !

२)
कुछ फूल फैलाते हैं 
खुशबू हवा में,
और कुछ,
पास बुलाते हैं भ्रमर को
चमकीले रंगों की मदद से !

३)
धर्म ने फिर साथ दिया 
भ्रष्टाचार  का,
क्या खूब दोस्ती है दोनों में !
एक जनता को बांटता है,
दूसरा लूटता है !

36 comments:

  1. झोपड़े में
    दीपक की रौशनी को देख,
    फिर इर्ष्या से जल गया,
    महल का
    झाड़ फानूस !...

    Your deep insight is reflected in it.

    .

    ReplyDelete
  2. आपकी तीनों क्षणिकाएँ अच्छी हैं. तीसरी सामयिक है और सम दृष्टि से देखती है.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  4. ....शब्दों को पिरोया है आपने

    ReplyDelete
  5. bahut badhiya kataaksh..

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  6. झोपड़े में
    दीपक की रौशनी को देख,
    फिर इर्ष्या से जल गया,
    महल का
    झाड़ फानूस !

    यूं तो सभी अच्छी हैं...पर यह सबसे अच्छी लगी....

    ReplyDelete
  7. कुछ फूल फैलाते हैं
    खुशबू हवा में,
    और कुछ,
    पास बुलाते हैं भ्रमर को
    चमकीले रंगों की मदद से !achhi kshanikayen

    ReplyDelete
  8. आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके पोस्ट की है हलचल...जानिये आपका कौन सा पुराना या नया पोस्ट है यहाँ पर कल ...........
    नयी-पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  9. धर्म ने फिर साथ दिया
    भ्रष्टाचार का,
    क्या खूब दोस्ती है दोनों में !
    एक जनता को बांटता है,
    दूसरा लूटता है !

    गहन भाव लिए सुंदर क्षणिकाएं. बधाई.

    ReplyDelete
  10. क्षणिकाएं अच्‍छी हैं। पर कुछ शब्‍द कम किए जा सकते हैं,ऐसा करने से वे और प्रभावी हो जाएंगी।

    ReplyDelete
  11. कुछ फूल फैलाते हैं
    खुशबू हवा में,
    और कुछ,
    पास बुलाते हैं भ्रमर को
    चमकीले रंगों की मदद से!

    वाह!

    ReplyDelete
  12. आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    वाह! बहुत खूब लिखा है आपने! तीनों क्षणिकाएँ बहुत अच्छी लगी!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  14. वाह ... बहुत खूब बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन क्षणिकाएँ तीनों ही.

    ReplyDelete
  16. ये क्षणिकायें सिद्ध करती हैं उस कथन को, 'small is BIG'

    ReplyDelete
  17. খুব ভাল লাগল পড়ে।
    আপনি বাংলায় লেখেন না কেন?

    ReplyDelete
  18. आप सबको अनेक धन्यवाद ...
    @ राजेश जी, ज़रूर कोशिश रहेगी बेहतरी की ... आपके सुझाव के लिए शुक्रिया ...
    @ संजय जी, जब कोई छोटी रचना लिखता है ... तो वो बहुत कुछ पाठकों की समझ पर छोड़ देता है ... समझदार को इशारा ही काफी होता है ...
    @ Mahasweta, আমার পড়াশোনা ইংলিশ মিডিয়ামে ... তাই ইংলিশ আর হিন্দিতে স্বচ্ছন্দ অনুভব করি ... বাংলা লিখতে পড়তে জানি কিন্তু বাংলাতেই কোনো রচনা লেখা আমার পক্ষে সত্যিই খুব কঠিন ...

    ReplyDelete
  19. झोपड़े में
    दीपक की रौशनी को देख,
    फिर इर्ष्या से जल गया,
    महल का
    झाड़ फानूस !
    यह है क्षणिका सुंदर अतिसुन्दर .......

    ReplyDelete
  20. छोटी किन्तु गंभीर - बहुत सुन्दर - क्या बात है?

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. दमदार ... तीनों ही लाजवाब ... कुछ शब्दों में गहरी और दूर की बात कहते हुवे ...

    ReplyDelete
  22. सुंदर क्षणिकाएं...प्रभावी

    ReplyDelete
  23. धर्म ने फिर साथ दिया
    भ्रष्टाचार का,
    क्या खूब दोस्ती है दोनों में !
    एक जनता को बांटता है,
    दूसरा लूटता है !

    धर्म और भ्रष्टाचार साथ-साथ...
    वाह, सटीक है....।
    बढ़िया क्षणिकाएं।

    ReplyDelete
  24. झोपड़े में
    दीपक की रौशनी को देख,
    फिर इर्ष्या से जल गया,
    महल का
    झाड़ फानूस !

    ...बहुत सटीक टिप्पणी...सभी क्षणिकाएं बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  25. kamaal ki kshnikayen..jabardast..

    ReplyDelete
  26. बिना सवालों के जबाब बहुत ही अछे लगे ,शुक्रिया जी

    ReplyDelete
  27. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    ReplyDelete
  28. झोपड़े में
    दीपक की रौशनी को देख,
    फिर इर्ष्या से जल गया,
    महल का
    झाड़ फानूस !...

    सभी क्षणिकाएं बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  29. छोटे-छोटे बिम्बों में गहरी बात कह गए हैं. वाह !

    ReplyDelete
  30. सुन्दर भाव -कणिकाएं .

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...