Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Apr 25, 2011

बनके सितारा चमकता रहूँगा

 काफी दिनों बाद कोई रचना दे रहा हूँ ब्लॉग में .... एक हलकी फुलकी सी, प्यार भरी कविता प्रस्तुत है आप सबके लिए ... चित्र मेरे अपने एल्बम से है  ...
बनके नश्तर तुम
चुभ जाओ दिल में,
बनके ज़ख्म
मैं हँसता रहूँगा
नज़रों से भले तुम
गिरा दो मुझको,
दिल में तुम्हारा
मैं बसता रहूँगा

करते जाओ तुम
कितना भी सितम,
हर सितम तुम्हारा
मैं सहता रहूँगा
मानो न मानो,
मगर हर पल,
मैं हूँ तुम्हारा
यह कहता रहूँगा

सूनी सी रातों में
जब तुम अकेली,
बैठोगी यादों के 
एल्बम खोलकर
तुम्हारी यादों के 
आसमान में मैं,
बनके सितारा 
चमकता  रहूँगा

एकदिन अचानक
जब आयेगा पतझड़,
तुम्हारे चमन के 
एक कोने में तब भी ...
जैसे एक उम्मीद
की दहकती लौ,
खिलके सुमन मैं
महकता रहूँगा

दिल में तुम्हारा
मैं बसता रहूँगा


40 comments:

  1. करते जाओ तुम
    कितना भी सितम,
    हर सितम तुम्हारा
    मैं सहता रहूँगा ।
    मानो न मानो,
    मगर हर पल,
    मैं हूँ तुम्हारा
    यह कहता रहूँगा ।... phir nahi hoga sitam , bahut cool cool rachna

    ReplyDelete
  2. मैं सहता रहूँगा ।
    मानो न मानो,
    मगर हर पल,
    मैं हूँ तुम्हारा
    यह कहता रहूँगा ।
    बहुत रोचक और सुन्दर अंदाज में लिखी गई रचना .....आभार

    ReplyDelete
  3. यह गुलाब का एक ताज़ा फूल बहुत कुछ कहता है बशर्ते लोग अहसास कर सकें ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  4. Waaqayee badee pyaree rachana hai!

    ReplyDelete
  5. करते जाओ तुम
    कितना भी सितम,
    हर सितम तुम्हारा
    मैं सहता रहूँगा ।
    मानो न मानो,
    मगर हर पल,
    मैं हूँ तुम्हारा
    यह कहता रहूँगा ...

    Beautiful !...This is called commitment !

    .

    ReplyDelete
  6. करते जाओ तुम
    कितना भी सितम,
    हर सितम तुम्हारा
    मैं सहता रहूँगा ।
    मानो न मानो,
    मगर हर पल,
    मैं हूँ तुम्हारा
    यह कहता रहूँगा ।

    इन्हीं अनुभवों से तो हृदय सबल होता है।
    बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  7. सुंदर अहसासों की भावुक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  8. आमीन इन्द्रनील भाई, इन खूबसूरत अहसासों की तरह दिलों में बसते रहिये हमेशा।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर और रोमांटिक कविता.. मन को छू गई...

    ReplyDelete
  10. dosti ki waada aapse nibhaata rahunga....
    aapke blog pe be-naaga aata rahunnga...

    khoobsurat rachna likhi hai sail bhai!

    ReplyDelete
  11. प्रेमपरक सुन्दर रचना. बधाई अच्छी कविता के लिए.

    ReplyDelete
  12. आत्म विशवास की अभिव्यक्तिपरक रचना अच्छी है.

    ReplyDelete
  13. दिल में बसने का किराया भी देना होगा.
    आपने शानदार भावों को पिरोकर एक बेहतरीन कविता लिखी है. बधाई

    ReplyDelete
  14. बहुत रोचक और सुन्दर रचना .....आभार

    ReplyDelete
  15. इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई स्वीकारें...
    नीरज

    ReplyDelete
  16. सूनी सी रातों में
    जब तुम अकेली,
    बैठोगी यादों के
    एल्बम खोलकर ।
    तुम्हारी यादों के
    आसमान में मैं,
    बनके सितारा
    चमकता रहूँगा ।

    ...बहुत भावपूर्ण रचना..हरेक पंक्ति मन को छू जाती है,,

    ReplyDelete
  17. सुंदर अहसासों की भावुक अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  18. सचमुच भोली सी कविता है ये तो

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर रचना.......
    कविता का यह अंश बहुत ही संजीदा लेखन का प्रमाण प्रस्तुत करता है....


    एकदिन अचानक
    जब आयेगा पतझड़,
    तुम्हारे चमन के
    एक कोने में तब भी ...
    जैसे एक उम्मीद
    की दहकती लौ,
    खिलके सुमन मैं
    महकता रहूँगा ।

    नाज़ुक कविता.......!!!!! अच्छे भाव हैं.

    ReplyDelete
  20. खिलके सुमन मैं
    महकता रहूँगा ।
    दिल में तुम्हारा
    मैं बसता रहूँगा । -- महकती रचना

    ReplyDelete
  21. yeh to deewangi ki had hai !!

    ReplyDelete
  22. नमस्कार,
    अभी तो सिर्फ़ राम-राम,

    ReplyDelete
  23. सुन्दर रचना ...
    इतनी भी हल्की फुल्की नहीं है

    ReplyDelete
  24. दिल में तुम्हारा
    मैं बसता रहूँगा ।
    बहुत जबरदस्त दावा पेश किया है.दिल में बसने का, अब समझने वालें समझें तब है बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  25. dil se likhe gaye shabad sach mein dil ko chuu gaye.. bahut hi badiya likha aapne.... jitni taarif ki jaye kam hai.......
    Please Visit My Blog for Hindi Music, Punjabi Music, English Music, Ghazals, Old Songs, and My Entertainment Blog Where u Can find things like Ghost, Paranormal, Spirits.
    Thank You

    ReplyDelete
  26. शुद्ध समर्पण है इन्द्रनील जी, शुभकामनाएँ :)

    करते जाओ तुम
    कितना भी सितम,
    हर सितम तुम्हारा
    मैं सहता रहूँगा ।
    मानो न मानो,
    मगर हर पल,
    मैं हूँ तुम्हारा
    यह कहता रहूँगा ।

    ReplyDelete
  27. sundar bhav pravan kavita. tera tujhko arpan wala bhav accha laga . google transliteration na chalne ke karan roamn me likhna pada.

    ReplyDelete
  28. खिलके सुमन मैं
    महकता रहूँगा ।

    दिल में तुम्हारा
    मैं बसता रहूँगा

    मासूम ख्वाहिश! सुन्दर और भावपूर्ण अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  29. अच्‍छी ही है रचना वर्ना इतने कमेंन्‍टस कैसे मि‍लते ?

    ReplyDelete
  30. वाह! दिल को छू गयी आपकी ये कविता!

    ReplyDelete
  31. @ राजे शा
    कमेंन्‍टस आये न आये, अब जब खुद आपने अच्छी कह दिया तो अच्छी ही होगी :)

    ReplyDelete
  32. komal sunder ehsaas se bhari -
    sunder rachna ..!!

    ReplyDelete
  33. bahut hi narm se bhaw.....komal-komak si,sunder-sunder si.....

    ReplyDelete
  34. इन्द्रनील जी,
    क्या खूब समर्पण का भाव है आपकी रचना में....
    करते जाओ तुम कितना भी सितम,
    हर सितम तुम्हारा मैं सहता रहूँगा ।
    मानो न मानो, मगर हर पल,
    मैं हूँ तुम्हारा, यह कहता रहूँगा ।

    वाह - वाह क्या बात है!!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...