Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Oct 4, 2010

कुछ पानी के छींटे


सोचकर गया था कि बस महीने भर का काम है, निपट जायेगा पर देखते देखते दो महीने हो गए इन दो महीनों में फुर्सत नहीं मिली कि ब्लॉग जगत में आ पाऊँ
आज फिर समय मिला है कि बैठूं, कुछ पोस्ट करूं और सबके पोस्ट को पढ़ पाऊँ तो लीजिए आपके लिए प्रस्तुत है ये रचना उम्मीद है आप सबको पसंद आयेगी

१)
सुबह से बारिश हो रही है
हवा, मिटटी और मौसम,
मन भी गीला गीला सा
इस भीगी शाम का
क्या करूं
एकबार बता दो,
आ जाओ

२)
रास्ते के बाज़ू में,
पानी के छींटे,
जैसे कि तुम आये
और चले गए,
जीवन में कुछ
यादों के धब्बे छोड़कर

३)
उसने पुछा
"रुक क्यूँ नहीं जाते?"
मैंने कहा
"बारिश आ रही है"
अब, उसे कैसे कहूँ
मौसम तो बस बहाना है

 

27 comments:

  1. स्वागत है ..... क्या हाल है जनाब ? खूब भिगोया ... साहब...मान गए ! ऐसे ही लगे रहिए !

    ReplyDelete
  2. खूबसूरती से लिखे एहसास ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. mujhe to laga indraneel ji kahieen kho to nahi gaye...chaliye shukra hai aap wapas aaye aur aaye bhi ek behtareen rachna ke saath...

    ReplyDelete
  4. स्वागत !आपकी वापसी! वाह सुन्दर रचनायें!

    ReplyDelete
  5. .
    स्वागत है आपकी वापसी का।

    सुन्दर रचना !
    .

    ReplyDelete
  6. Teeno rachanayen behad sundar hain! Antme mausam to kewal bahana hai!

    ReplyDelete
  7. जैसे कि तुम आये
    और चले गए,
    जीवन में कुछ
    यादों के धब्बे छोड़कर

    बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  8. ...यहां आते ही आपने सुंदर श्ब्दों की बौछार कर दी!...मन प्रसन्न हो गया!...बधाई!...शुभकामना के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. इस गीले शाम का
    क्या करूं...... kahna mushkil hai

    ReplyDelete
  10. वाह क्या बात है……………मौसम का रंग उतर आया है।

    ReplyDelete
  11. स्वागत है। बहुत अच्छी लगी रचना। ज़िन्दगी के मौसम एक से कहाँ रहते हैं
    शुभकामनायें
    कृ्प्या मेरा ये ब्लाग भी देखें
    http://veeranchalgatha.blogspot.com/
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  12. बढ़िया प्रस्तुति..
    चिट्ठाजगत की बत्ती जली मिली ... चिट्ठाजगत टीम को बधाई.

    ReplyDelete
  13. आप सबको अनेक धन्यवाद रचना को सराहने के लिए ... ब्लॉग जगत से दूर रहकर मुझे भी कुछ सूना सा लग रहा था ...

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छी रचना के लिए शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  15. कविताएं तो बहुत अच्छी हैं ...मन नहीं, सीधे दिल पर असर करती हैं।...बधाई।

    ReplyDelete
  16. इस भीगी शाम का
    क्या करूं
    एकबार बता दो,
    आ जाओ।
    सही है बंधू!
    बूंदे एक-दूसरे के साथ हैं, और आप अकेले!
    बहुत नाइंसाफी है!
    आशीष
    --
    प्रायश्चित

    ReplyDelete
  17. बहुत उम्दा.. बढ़िया भावाव्यक्ति .. लिखते रहिये ....

    ReplyDelete
  18. इन्द्रनील जी,
    कमबैक शानदार रहा। तीनों रचनायें एक से बढ़कर एक।

    ReplyDelete
  19. बहुत ही खुबसूरत रचना...

    मेरे ब्लॉग पर मेरी नयी कविता संघर्ष

    ReplyDelete
  20. लगता है इन्‍द्रनील जी दो महीने चुप रहे तो परिपक्‍व होकर लौटे। बहुत सुंदर अभिव्‍यक्तियां हैं।

    ReplyDelete
  21. राजेश जी, आपके प्रशंसा पत्र के लिए अनेक धन्यवाद !

    ReplyDelete
  22. रास्ते के बाज़ू में,
    पानी के छींटे,
    जैसे कि तुम आये
    और चले गए,
    जीवन में कुछ
    यादों के धब्बे छोड़
    sabhi bahut khoobsurat hai ,kabhi kabhi bahane ke sahare hi chalna padta .

    ReplyDelete
  23. बहुत ही अच्छी रचनाएँ..... प्रभावी अभिव्यक्ति....
    चित्र बड़ा ही प्यारा लगाया है आपने.....

    ReplyDelete
  24. भाई वाह...छोटे छोटे शब्दों में बेहद खूबसूरत अहसास पिरो दिए हैं आपने...कमाल की रचना...लिखते रहें...क्यूँ की आप जब लिखते हैं कमाल करते हैं....
    नीरज

    ReplyDelete
  25. नीरज जी, क्यूँ शर्मिंदा कर रहे हैं ....

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...