Indranil Bhattacharjee "सैल"

दुनियादारी से ज्यादा राबता कभी न था !
जज्बात के सहारे ये ज़िन्दगी कर ली तमाम !!

अपनी टिप्पणियां और सुझाव देना न भूलिएगा, एक रचनाकार के लिए ये बहुमूल्य हैं ...

Oct 8, 2012

फोटोग्राफी - शौक या पेशा ?

Canon Powershot SX30IS


फोटोग्राफी हमारे दुनिया देखने का तरीका बदल सकती हैं । रोज कि जिंदगी मे दिखते बेरौनक और बेहद मामूली चीज़ों को कैमरे के क्लिक से वो सौंदर्य मिल सकता है जिसे हम कभी सोचे भी नहीं थे । आज फोटोग्राफी महज एक पेशा भर नहीं है, बल्कि हर इंसान के लिए एक ऐसा मौका है जिससे वो अपनी यादों को संजो कर रख सकता है और खुद के सौंदर्य बोध को नए तरीके से दुनिया के सामने ला सकता है । फोटोग्राफी न केवल एक शौक है बल्कि आज के समाज मे एक बेहतरीन करियर के रूप मे उभर रहा है । यदि आपमें सौंदर्य बोध है और आप अच्छे से सीखना चाहते हैं, तो फोटोग्राफी को आप या तो एक शौक या करियर के रूप में चुन सकते हैं । ये आपको शोहरत, दौलत तो दिलाता ही है,  बल्कि इतिहास में जगह बनाने का मौका भी देता है । कई तस्वीरें ऐसी हैं, जो इतिहास के पन्नों पर अमर हो गई हैं । खास कर National Geographic Magazine के मुखपृष्ठ पर प्रकाशित “The Afghan girl” के बारे मे कौन नहीं जानता । 

पेशे के तौर पर देखा जाए तो फोटोग्राफी में कॅरियर बनाने के लिए आपको डिग्री व डिप्लेामा कोर्स की ज़रूरत होगी । फोटोग्राफी की ज़रूरत आज समाज की कई बातों मे होती है, जैसे कि पत्रकारिता, शादी-व्याह, फैशन, विज्ञापन, वन्य जीवन संरक्षण, पोर्ट्रेट, फोरेंसिक, फ्री लांसिंग, शिल्प इत्यादि । और तो और तस्वीरों को कई बार अदालत में सबूत के तौर पर भी इस्तमाल की गई है । आपके मोहल्ले के फोटोग्राफर के बारे में तो आप जानते ही होंगे, जिसके पास आप पासपोर्ट साइज़ फोटो खिंचवाने के लिए जाते हैं । भारत में सबसे ज्यादा तादाद शादी के फोटोग्राफरों का है क्यूंकि यह बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है ।

फोटोग्राफी का स्वरुप आज बदल चूका है । फिल्म कैमरे से फोटोग्राफी के दिन अब गुज़र चुके है । हाँ, पर कई फोटोग्राफर आज भी विशेष समय पर फिल्म कैमरा इस्तमाल करना पसंद करते हैं । 

डिजिटल कैमरे के फायदे ये हैं कि आप जितने चाहे तस्वीर ले लें । कोई फिल्म बर्बाद होने वाले तो नहीं है । एक ही चीज़ की १०० तस्वीर ले लो, और फिर उसमें से जो आपको अच्छा लगे, वो रखकर बाकी डिलीट कर दो । हालाँकि डिजिटल कैमरे के भाव फिल्म कैमरे से ज्यादा है । और फिर डिजिटल तस्वीरें देखने के लिए या उन्हें सँवारने के लिए आपको कंप्यूटर और विशेष सॉफ्टवेर की ज़रूरत होती है । पर आज के ज़माने में, शायद ही कोई ऐसा घर होगा जहाँ कंप्यूटर न हो । और जहाँ तक तस्वीरें प्रोसेस करने की बात है तो कई सॉफ्टवेर तो मुफ्त में अंतरजाल पर उपलब्ध हैं । अब तो तस्वीरें कोई भारी भरकम एलबम में नहीं लपेटी जातीं हैं । आप जितनी चाहे तसवीरें खींचे और उन्हें अपने कंप्यूटर पर या DVD या Hard-disk में सेव कर लें । पहले आपके घर में कोई मेहमान आये तो उनको अपने शादी-व्याह या फिर यात्रा की तसवीरें दिखाने के लिए, अलमारी के सबसे ऊपर वाले रैक से कपड़ो के नीचे दबे मोटा एल्बम निकालना पड़ता था । आज किसी को अपनी तसवीरें दिखाना हो तो, कंप्यूटर के स्क्रीन पर आसानी से दिखाया जा सकता है, जो उन छोटे छोटे 4X6 के प्रिंट से कहीं बेहतर और बड़े दिखते हैं । और फिर किसी को तस्वीर देखने के लिए आपके घर आने की ज़रूरत भी तो नहीं है । भारत में बैठे ही आप अमेरिका में रहने वाले आपके दोस्त से अंतरजाल द्वारा फोटो शेअर कर सकते हैं । है न कमाल की बात ? 

और फिर आजकल तो हर मोबाईल फोन पर एक से बढ़कर एक बेहतरीन कैमरा आ रहा है । फिर कोई अगर यह कहता है कि तसवीरें लेना मुश्किल है तो फिर उसे क्या कहा जा सकता है ?
 
चलिए अब मैं आप सबसे खुद के शौक के बारे में बात करूँगा । कई सालों से मुझे फोटोग्राफी का शौक है । तबसे, जबसे डिजिटल कैमरे नहीं हुआ करते थे । तब फिल्म कैमरे हुआ करते थे । फोटोग्राफी उस वक्त बेहद महँगा शौक हुआ करता था । और आप ज्यादा तसवीरें ले भी नहीं सकते थे, क्यूंकि हर तस्वीर से एक एक्स्पोज़र चला जाता था । बहुत सोच समझ कर एक एक तस्वीर लेना होता था । आज के जैसा नहीं कि डिजिटल कैमरे से आप जितने चाहे तस्वीर ले लो, कोई फर्क नहीं पड़ता है । आज भी याद है, गुवाहाटी में मेरा फिल्म कैमरा चोरी जाने पर कितना दुःख हुआ था । 
खैर, जब डिजिटल फोटोग्राफी का चलन हुआ तो मैंने एक Olympus का कैमरा खरीदा था । छोटा सा डिजिटल कैमरा, जिसे आप आसानी से अपने पाकिट में रख कर बाहर घूम सकते हैं । जब चाहे निकालो, तस्वीर लो और फिर पाकिट के अंदर । फिर मैंने एक Canon का कैमरा खरीदा जो इतना छोटा तो नहीं था कि पाकिट के अंदर रखूं, पर “Point and Shoot” कैमरा होने के कारण इसे आसानी से साथ लिए घूम सकता था और जब चाहे तस्वीर खींच सकता था । 

खैर एक दिन यह भी आया जब मुझे यह लगने लगा कि शायद अब मैं इस कैमरा से संतुष्ट नहीं हूँ । मुझे किसी बेहतर कैमरे की तलाश थी । तब मैंने एक DSLR कैमरा खरीदा जिसे अब मैं इस्तमाल करता हूँ । इस कैमरे से जो तस्वीरें खींचता हू वो काफी सुन्दर और तकनिकी रूप से बेहतर होती हैं ।

आज इस पोस्ट के साथ मैं, मेरे द्वारा ली हुई कुछ तस्वीर यहाँ पर आप सबके लिए लगा रहा हूँ । उम्मीद है आप सबको ये तसवीरें पसंद आएगी । अगले पोस्ट में मैं यह बताऊंगा कि Camera कितने प्रकार के होते हैं और उसे कैसे इस्तमाल करना चाहिए । तब तक के लिए आज्ञा दीजिए ।


जिन मित्रों को मेरी ली हुई तस्वीर देखने हैं वो कृपया फेसबुक पर मेरा फोटोग्राफी पेज पर जाएँ या फिर मेरा Flickr account पर जाएँ !
 

Canon EOS 650D

16 comments:

  1. सैल जी आपने सही कहा फोटोग्राफी में अब प्रयोग करने की संभावनाएं बहुत बढ़ गयी हैं. आप यह भी बताईएगा कि निकोन और कैनन में से कौन सा कैमरा बेहतर है. मैं भी एक DSLR कैमरा खरीदना चाहिती हूँ, बजट ५०००० से ७०००० तक.

    ReplyDelete
  2. रचना जी, जानकर अच्छा लगा कि आप भी DSLR खरीदना चाहते हैं । Canon या Nikon दोनों अच्छी कंपनियां हैं और बेहतरीन कैमरे बनाते हैं । आप दोनों मे से किसीका भी कैमरा खरीदिए, आपको अच्छ कैमरा ही मिलेगा । बस खरीदते समय ये ध्यान रखिये कि आप क्या चाहते हैं । आपकी निजी पसंद और सहूलियत बहुत मायने रखती है ।
    क्या आप केवल अच्छी still तसवीरें चाहती हैं? फिर शायद Nikon सही रहेगा ।
    लेकिन यदि आप still के साथ video भी चाहती हैं तो शायद Canon सही रहेगा ।
    वैसे DSLR कैमरे मे लेन्स बहुत महत्व रखता है । इसलिए आप पहले तो ये सोचे कि आप किस तरह कि फोटोग्राफी करेंगी । यदि इस बारे मे विस्तृत उतार मिले तो शायद मैं आपकी मदद कर सकता हूँ ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुख्य रूप से still तसवीरें और वह भी स्पोर्ट्स की नहीं. क्या किट लेंस के अलावा भी लेंस शुरू में खरीदने चाहिये. मैंने पढ़ा है कि सिग्मा और तैम्रोंरन भी अच्छे लेंस बनाते हैं, उनके बारे में आपकी क्या राय है. धन्यबाद.

      Delete
    2. रचनाजी आप किस तरह की फोटोग्राफी करेंगी ... इस पर निर्भर करता है कि आप क्या कैमरा खरीदेंगे या क्या लेन्स ...फोटो ग्राफी तरह तरह के होते हैं ... फॅमिली (बच्चों के), स्पोर्ट्स, वन्य जीवन (पक्षी, जानवर इत्यादि), पोर्ट्रेट, macro, landscape, night-photo ityadi.
      वैसे ज़रुरी नहीं है कि DSLR ही खरीदा जाय ... आजकल SLT Cameras आये हुए हैं जो बेहतरीन हैं. इसके अलावा, Mirrorless कैमरे भी हैं ...
      इन सबका फायदा यह है कि यह DSLR जितनी अच्छी तस्वीर भी खींचता है और DSLR से सस्ता भी है ...
      साधारण इस्तमाल के लिए किट लेन्स यथेष्ट है ...

      Delete
  3. अच्छी जानकारी देती पोस्ट!
    आपके खींचे गए बेहतरीन फोटोग्राफ़्स मैं अक्सर देखता रहता हूँ।


    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशवंत सुनकर अच्छा लगा कि आप मेरी तसवीरें देखते हैं ... पर केवल देखने से नहीं होता है ... अपनी टिपण्णी और सुझाव भी देना पड़ेगा ...

      Delete
  4. अच्‍छी जानकारी....मैं भी फोटोग्राफी का शौक रखती हूं...और मनचाही तस्‍वीरें भी लेती हूं...

    ReplyDelete
    Replies
    1. रश्मि जी, मेरे पेज पर स्वागत है ...
      आपकी तसवीरें देखना चाहूँगा

      Delete
  5. Replies
    1. सुरेन्द्र भाई ... all the best ...

      Delete
  6. Photography waqayee me ek zabardast kala hai!

    ReplyDelete
  7. हम तो खूबसूरत चित्रों को, उन्हें बनाने वालों को या उन्हें कैमरे से शूट करने वालों को बहुत खास निगाहों से देखते हैं, अपनी रेंज इतनी ही है:)
    बहुत अच्छा शौक है, फ़ोटोग्राफ़ी पर यह लेख और आने वाली कड़ियां नौसिखियों के ज्ञान को बढ़ायेंगी। थैंक्स इन्द्रनील जी।

    ReplyDelete
  8. कल 13/10/2012 को आपकी यह खूबसूरत पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव बहुमूल्य हैं ...

आप को ये भी पसंद आएगा .....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...